सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

बुधवार, 12 अगस्त 2009

मेटलाइफ ने शुरू किया स्वास्थ्य बीमा कारोबार





प्रमुख निजी जीवन बीमा कंपनी मेटलाइफ भी स्वास्थ्य बीमा क्षेत्र में उतरने का लोभ नहीं रोक पाई। इस क्षेत्र में दरअसल पिछले एक-दो वर्षो से इतनी जबरदस्त वृद्धि देखने को मिली है कि अधिकांश जीवन बीमा कंपनियां इसमें प्रवेश कर चुकी हैं। मेटलाइफ इंडिया इंश्योरेंस ने 'मेट हेल्थ केयर' के नाम से एक नई हेल्थ बीमा पालिसी बाजार में पेश करने का ऐलान किया है। इसमें ग्राहकों को अस्पताल में भर्ती होने की स्थिति में दैनिक लाभ देने के साथ ही आंशिक या संपूर्ण विकलांगता की स्थिति में एकमुश्त राशि देने का प्रावधान है। स्वास्थ्य बीमा बाजार में कड़ी प्रतिस्पद्र्धा को देखते हुए कंपनी ने पालिसी देने से पहले किसी भी प्रकार की चिकित्सीय जांच नहीं करने का प्रस्ताव किया है।

मेटलाइफ ने पूरी तैयारी के बाद ही स्वास्थ्य बीमा क्षेत्र में कदम रखा है। यही वजह रही कि कंपनी को इस बाजार में उतरने में थोड़ी देर हो गई। कंपनी ने स्वास्थ्य बीमा उत्पादों को बेचने के लिए अपने एजेंटों को खास तौर पर तैयार किया है। चयनित एजेंटों को इसके लिए प्रशिक्षित किया गया है ताकि वे ग्राहकों की जरूरतों को समझते हुए उन्हें हेल्थ बीमा दे सकें। कंपनी ने आम जनता को हेल्थ इंश्योरेंस के बारे में जागरूक बनाने के लिए बड़े पैमाने पर अभियान शुरू करने का भी फैसला किया है। इसी तरह से कंपनी एक खास मार्केटिंग अभियान भी शुरू करने जा रही है ताकि वह हेल्थ बीमा के बढ़ते बाजार के साथ तालमेल बिठा सके। इस बारे में कंपनी के एमडी राजेश रेलन का कहना है कि विभिन्न वर्गो के लोगों की जरूरत के हिसाब से अलग-अलग हेल्थ बीमा पालिसी पेश करना कंपनी की प्राथमिकता होगी। कंपनी बैंकाशुरेंस के जरिए भी हेल्थ बीमा पालिसियों को बेचने पर ध्यान देगी।

मालूम हो कि हेल्थ बीमा बाजार काफी तेजी से बढ़ रहा है। वर्ष 2004 से 2008 के बीच स्वास्थ्य बीमा में 271 फीसदी की वृद्धि हुई है, जबकि इस दौरान अन्य बीमा कारोबार में 67 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है। हालांकि अभी भी देश की केवल दो फीसदी आबादी के पास ही हेल्थ बीमा पालिसियां हैं। यही कारण है कि कंपनियां इस बाजार में खूब दिलचस्पी ले रही हैं। पिछले वर्ष देश का हेल्थ बीमा बाजार लगभग 5 हजार 200 करोड़ रुपये का रहा है। इसमें निजी बीमा कंपनियों की हिस्सेदारी 40 फीसदी है। जिस तरह से भारतीयों की आमदनी बढ़ रही है और अर्थव्यवस्था में विकास हो रहा है, हेल्थ बीमा की मांग में काफी तेजी आने की संभावना है।

1 टिप्पणी:

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter