सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

सोमवार, 17 अगस्त 2009

जय हो - भूपति ने रिकार्ड पांचवीं बार जीता रोजर्स कप


भारत के महेश भूपति और बहामास के उनके जोड़ीदार मार्क नोल्स ने अपनी शानदार फार्म जारी रखते हुए मैक्स मिरनई और एंडी रैम की सातवीं वरीय जोड़ी को सीधे सेटों में हराकर 30 लाख डालर ईनामी रोजर्स कप टेनिस टूर्नामेंट का खिताब जीत लिया। भूपति ने भिन्न-भिन्न जोड़ीदारों के साथ रिकार्ड पांचवीं बार यह खिताब जीता है।

भूपति और नोल्स का यह चौथा खिताब है। तीसरी वरीयता प्राप्त इस जोड़ी ने 6-4, 6-3 की जीत के साथ एटीपी विश्व टूर मास्टर्स 1000 टेनिस टूर्नामेंट में पहला खिताब जीता। भूपति और नोल्स ने ठोस सर्विस की और एक घंटे 12 मिनट चले मैच के दौरान एक भी ब्रेक प्वाइंट का सामना नहीं किया। भारत और बहामास की जोड़ी ने सेमीफाइनल में गत चैंपियन डेनियल नेस्टर और नेनाद जिमोंजिक की जोड़ी को हराकर फाइनल में प्रवेश किया था।

ओपन युग में सर्वाधिक बार रोजर्स कप खिताब जीतने वाले भूपति ने चार जोड़ीदारों के साथ यहां पांचवां खिताब जीता। भूपति ने इससे पहले लिएंडर पेस [1997 और 2004], मिरनई [2003] और पावेल विजनर [2007] के साथ रोजर्स कप टूर्नामेंट जीता है। इस भारतीय खिलाड़ी ने मैच के बाद मजाकिया लहजे में कहा, 'मैं अपने कोच के साथ मजाक कर रहा था कि मैंने कनाडा में पांचवां खिताब जीता है इसलिए मुझे अब यहां फ्लैट खरीद लेना चाहिए।'

भूपति इसके साथ ही 1997 से हर साल कम से कम एक एटीपी खिताब जीतने में सफल रहे हैं। मांट्रियल में यह भूपति का कुल 45वां खिताब है। नोएल्स ने 16 साल बाद कनाडा में एटीपी खिताब जीतने में सफलता हासिल की। भूपति-नोल्स साल के शुरुआत में आस्ट्रेलियन ओपन और बार्सिलोना ओपन में उपविजेता रहे थे।

मैनपुरी जनपद के सभी खेल प्रेमियों की ओर से उन्हें बहुत बहुत शुभकामनाये |

1 टिप्पणी:

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter