सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

सोमवार, 14 सितंबर 2009

रोया करे जनता - चिंता करने तो थोड़े ही बने हम अधिकारी या नेता ??

रोया करे जनता, कितना भी ख़राब हो रास्ता, अपन क्यों करे चिंता, 
चिंता करने तो थोड़े ही बने हम अधिकारी या नेता ?? 
भाई, अपने पास तो गाडी है, चलती भी बहुत प्यारी है , 
हमे तो दुखी नहीं करता यह रास्ता, फ़िर क्यों करे हम चिंता ?? 
हम है अधिकारी बड़े या हम है नेता, 
हमे है देश की चिंता, रास्ते की चिंता करे जनता !! 
देखें :-

मैनपुरी का करहल रोड: बदहाली की दास्ता सुना रहा अपनी जुबानी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter