सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

सोमवार, 14 सितंबर 2009

पेस ने मारा ऐस - अमेरिकी ओपन में पुरुष युगल खिताब पेस और डुलोही का

लिएंडर पेस ने अमेरिकी ओपन युगल फाइनल में अपने पूर्व जोड़ीदार महेश भूपति को रोमांचक मुकाबले में हराकर अपना 10वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीत लिया।
चौथी वरीयता प्राप्त पेस और चेक गणराज्य के लुकास डुलोही ने तीसरी वरीयता प्राप्त भूपति और बहामा के मार्क नोएल्स की जोड़ी को 3-6, 6-3, 6-2 से हराया। किसी ग्रैंडस्लैम के फाइनल में पहली बार पेस और भूपति आमने सामने थे। भूपति और नोएल्स मैच सीधे सेटों में जीतने की ओर बढ़ रहे थे लेकिन पेस ने जबर्दस्त खेल दिखाकर मैच का नक्शा ही बदल दिया। डुलोही ने उनका पूरा साथ दिया। पेस का यह पांचवां पुरुष युगल खिताब है और डुलोही के साथ उन्होंने दूसरी बार जीत दर्ज की है। यह उनके करियर का 41वां खिताब है। पेस ने इस साल डुलोही के साथ जून में फ्रेंच ओपन भी जीता था।
वहीं भूपति ने सात साल में कोई पुरुष युगल खिताब नहीं जीता है। आखिरी बार 2002 में बेलारूस के मैक्स मिरनी के साथ उन्होंने अमेरिकी ओपन ही जीता था। इस सत्र की शुरुआत में सानिया मिर्जा के साथ उन्होंने आस्ट्रेलियाई ओपन मिश्रित युगल खिताब अपने नाम किया था। पेस अगले गेम में अपनी सर्विस बरकरार नहीं रख सके लेकिन आठवें गेम में नोएल्स की सर्विस भी टूटने से हिसाब बराबर हो गया। इसके बाद डुलोही ने सर्विस कायम रखकर सेट जीत लिया और मुकाबला तीसरे सेट तक खिंचा। इसी लय को कायम रखते हुए पेस और डुलोही ने यह सेट और मैच जीत लिया।
भूपति ने तीसरे गेम में सहज गलती की जिसके बाद नोएल्स ने भी डबल फाल्ट करके पेस और डुलोही को जीतने का आसान मौका दे दिया। अगले गेम में पेस और डुलोही ने तीन ब्रेकप्वाइंट बचाए और सातवें गेम में अपने विरोधियों की सर्विस तोड़कर आठवें गेम में मैच जीता। 
मैनपुरी जनपद के सभी खेल प्रेमियों की ऑर से पेस और डुलोही को बहुत बहुत बधाईयां और बहुत बहुत शुभकामनाएं |

1 टिप्पणी:

  1. Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

    Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

    Click here for Install Add-Hindi widget

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter