सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

मंगलवार, 8 सितंबर 2009

मानसून की झमाझम में झूमी दलाल स्ट्रीट - 327.20 अंको की छलांग


देर से ही सही, देश के कई हिस्सों में मानसून की मेहरबानी और विदेशी बाजारों की मजबूती ने मिलकर दलाल स्ट्रीट में रंग जमाया। मंदी से मुकाबले के लिए प्रोत्साहन पैकेज जारी रहने और 6 फीसदी से ज्यादा विकास दर हासिल होने के भरोसे बाजार ने फर्राटा भरा। इन सबके असर में बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स सोमवार को साल में पहली बार 16 हजार का स्तर पार कर गया। इस दिन यह संवेदी सूचकांक 327.20 अंक यानी 2.09 फीसदी की छलांग लगाकर 16016.32 पर बंद हुआ। यह इसका 15 माह का उच्चतम स्तर है। इससे पहले यह सूचकांक 2 जून, 2008 को इस स्तर पर था। इसी प्रकार नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी 102.50 अंक यानी 2.19 फीसदी उछलकर 4782.90 की ऊंचाई पर बंद हुआ। यह इसका 30 मई, 08 के बाद का सर्वोच्च स्तर है।

देश के बड़े हिस्से में हो रही अच्छी बारिश ने निवेशकों का बाजार की मजबूती पर भरोसा लौटाया। बीते हफ्ते भारत, चीन जैसे प्रमुख उभरते देशों के संगठन जी 20 के वित्त मंत्रियों की लंदन में बैठक हुई। इसमें आर्थिक मंदी से निपटने के लिए प्रोत्साहन पैकेज जारी रखने का फैसला किया गया। पहले बाजार में यह आशंका थी कि अर्थव्यवस्था में सुधार को देखते हुए पैकेज को जल्दी खत्म किया जा सकता है। वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने चालू वित्त वर्ष 2009-10 के दौरान विकास दर 6 फीसदी से ज्यादा रहने का भरोसा जताया है। इन खबरों ने निवेशकों में जोश भरा। एशियाई व यूरोपीय शेयर बाजारों में तेजी के रुख को देखते हुए दलाल स्ट्रीट में जबर्दस्त लिवाली का दौर चला। इन सब से संकेत लेते हुए विदेशी संस्थागत निवेशकों व सटोरियों ने रीयल एस्टेट, मेटल व बैंकिंग कंपनियों के शेयरों में जमकर खरीदारी की।

बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स अच्छी बढ़त के साथ 15793.27 अंक पर खुला। यही इसका सत्र का निचला स्तर रहा। इसके बाद शुरू हुई लिवाली के जोर में सूचकांक चढ़ता हुआ 16035.50 अंक के उच्चतम स्तर तक चला गया, हालांकि यह इस स्तर से नीचे आकर बंद हुआ। ताजा लिवाली के माहौल में एफएमसीजी को छोड़कर बीएसई के सभी सूचकांकों में बढ़त दर्ज हुई। इसका सबसे ज्यादा फायदा रीयल एस्टेट कंपनियों के शेयरों को मिला। इस वर्ग का सूचकांक 5.49 फीसदी उछल गया। मेटल, बैंकिंग, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स, आटो व पीएसयू के शेयरों में भी खासी तेजी देखी गई। एफएमसीजी में मामूली गिरावट आई। स्मालकैप सूचकांक में 2.83 और मिडकैप में 2.31 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज हुई। सेंसेक्स की 30 कंपनियों में केवल आईटीसी व महिंद्रा एंड महिंद्रा के शेयर गिरावट पर बंद हुए, अन्य सभी फायदे में रहे। इस दिन बीएसई का कुल कारोबार भी बढ़कर 6099.73 करोड़ रुपये हो गया।

4 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसे ही झूमती रहे सेन्सेक्स!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. लगता है यह सेंसेक्स सावन के झुले की तरह है.....
    धन्यवाद बहुत सुंदर लिखा आप ने

    उत्तर देंहटाएं
  3. मतलब मानसून से सिर्फ किसान ही खुश नही होता !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter