सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

गुरुवार, 26 अगस्त 2010

अपनी औकात में रहो और हमारे मामलों में मत बोलो !!

आज की खबर :- सिख इस्लाम अपनाये या कश्मीर छोड़ दें  !!

कल की खबर :- सारे हिदुस्तानी इस्लाम अपनाएँ या भारत छोड़ दें  !!

फिर कहेंगे ...... सारे इस्लाम अपनाएँ या दुनिया छोड़ दें !!

यह साले पाकिस्तानी होते कौन है ........ हमे बताने वाले ??

अब भी सुधर जाओ .........नहीं तो घर में घुस कर मारेंगे और गिनेगे भी नहीं कि कितने मारे !!

इस लिए अपनी औकात में रहो और हमारे मामलों में मत बोलो !!

9 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमें इनपर गुस्सा करने की जरुरत नहीं है इन पर दया करो ये तो मार चुका है हिन्दू गहरी निद्रा में सो रहा है अब समय आ गया है मुसलमानों क़ा अंतिम समय है इन्हें मारना ही पड़ेगा लत क़े दावत बात से नहीं मानते.
    बहुत सामयिक मुद्दा उठाया अपने धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

    उत्तर देंहटाएं
  4. सलभ शर्मा जी बहुत बढ़िया लिखा मगर एक वाक्य से थोड़ा असहमत ! हम हिन्दुस्तानी शांति-शांति का ही राग अलापते रह जायेंगे और वे २०४७ तक इस देश के कई और इससे ले जायेंगे !

    "अब भी सुधर जाओ .HINDUSTANIYO.नहीं तो WO घर में घुस कर मारेंगे और गिनेगे भी नहीं कि कितने मारे !!"

    यह इसलिए लिखा क्योंकि सच्चाई यही है याद कीजिये १९४७ दिल्ली से पाकिस्तान जा रही ट्रेन में अम्बाला में कुछ उग्र भीड़ के रेलवे स्टेशन पर किये गए पथराव की वजह से पाकिस्तान जा रही एक मुस्लिम महिला और एक बच्चे की मौत हो गई थी , जैसे ही यह खबर लाहोर पहुंची उन्होंने हिन्दू सिखों से भरी अमृतसर आ रही पूरी ट्रेन के यात्रियों को काट डाला एक भी जिन्दा यात्री अमृतसर नहीं पहुंचा ! हकीकत यह है एक महिला और एक बच्चे यात्री की कीमत (वो भी गैर इरादतन ह्त्या ) = पूरी ट्रेन का खात्मा !!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. अरे इन पाकिस्तानी कुत्तो को क्यो धमका रहे है, भोंकने दो, अगर आज लाल बहदुर शास्त्री जेसा प्रधान मत्री होता तो हमारी फ़ोजे इन कुतो को अफ़गानिस्तान से भी आगे तक भगा कर आती...

    उत्तर देंहटाएं
  6. Desh ke bade neta okat pakistan ko uski dikhane se ghabda rahe hai. Aise main aap jaise logo ke leadership ki jarurat hai.
    Apka avhan ek nayi asha ki kiran hai.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter