सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

बुधवार, 4 अगस्त 2010

बु्लंद छत्तीसगढ का द्वितीय वार्षिकोत्सव


इस अवसर पर प्रेस के प्रतिनिधियों का भी सम्मेलन रखा गया था। इस अवसर पर श्री राजेन्द्र पांडे अधिवक्ता अलाहाबाद, डॉ अर्चना पांडे, श्री कौशल तिवारी, श्री ललित शर्मा, तपेश जैन,मनोज पांडे श्री अहफ़ाज रशीद, सुश्री संगीता गुप्ता, फ़िरोज खान,एवं प्रेस प्रति्निधि मौजुद थे। इस अवसर पर अहफ़ाज रशीद, कौशल तिवारी, तपेश जैन,ललित शर्मा, राजेन्द्र पाण्डेय, डॉ अर्चना पान्डेय, संगीता गुप्ता ने अपने विचार प्रगट किए।
 
बुलंद छत्तीसगढ की तरफ़ से सभी अतिथियों का स्वागत किया गया तथा स्मृति चिन्ह दिया गया। इस अवसर पर पत्रकारिता विषय पर चर्चा हूई।  
 
अंतिम में शाबास इंडिया फ़ेम प्रमोद यादव ने 111 नारियल एक मिनट में मुक्के से फ़ोड़ कर दिखाए। करतल ध्वनि से उनके कार्य को सराहा गया। अंत अहफ़ाज रशीद द्वारा निर्मित, हमर छत्तीसगढ एव नक्सली हिंसा के खिलाफ़ दो छोटी फ़िल्में दिखाई गयी। दोनो फ़िल्में बहुत प्रभावी हैं। कार्यक्रम का समापन कौशल तिवारी जी के आभार प्रदर्शन से हुआ। हम बुलंद छत्तीसगढ के बुलंद भविष्य की कामना करते है। 
( सभी चित्र और जानकारी साभार :- ललित शर्मा जी )

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर चर्चा , ओर उतने ही सुंदर चित्र भी, सब से अच्छा लगा नारियल फ़ोडना, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमारी तरफ से भी सप्रेम शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बुलंद बना रहे अऊर अपने मक़सद को बचाए रखे बुलंद छत्तीसगढ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह, इस प्रकार की पत्र वार्ताएं होती रहनी चाहिये....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत देर से आया लेकिन आ गया ना! दो दिन कोशिश करके थक गया लेकिन कमेन्ट बॉक्स को क्या दुश्मनी थी यह तो नहीं पता लेकिन उसने कमेन्ट कबूल करने से साफ़ इंकार कर दिया. अब इस समय क्या होगा,यह क्लिक के बाद मालूम होगा.
    छत्तीसगढ़ की वर्षगाँठ पर उम्दा पोस्ट लगाई. तस्वीरों ने तो मज़ा ही ला दिया, खाली कुर्सियां अच्छी लगीं. हम भारतीय, माहिर हैं किसी भी अवसर की अवहेलना के.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter