सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शनिवार, 2 अक्तूबर 2010

पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी के जन्मदिन पर विशेष


प्रधानमंत्री कार्यालय ने पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की मौत से जुडे़ एक मात्र उपलब्ध दस्तावेज को सार्वजनिक करने से इंकार कर दिया है। इसके लिए सूचना का अधिकार कानून [आरटीआई] के तहत गोपनीयता बरतने की व्यवस्था का हवाला दिया गया है।
शास्त्री जी की वर्ष 1966 में तत्कालीन सोवियत संघ के शहर ताशकंद में रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई थी। उनकी मौत का रहस्य अब भी नहीं सुलझा है।
प्रधानमंत्री कार्यालय के इंकार के बाद अब शास्त्री जी की मौत से जुड़े इस दस्तावेज को सार्वजनिक करने के लिए केंद्रीय सूचना आयोग के पास अपील की जाएगी। इससे पहले केंद्रीय लोक सूचना अधिकारी ने शास्त्री जी की मौत से जुड़ी जानकारी पाने के लिए आरटीआई के तहत दायर याचिका ठुकरा दी थी। उन्होंने माना था कि पूर्व प्रधानमंत्री की मौत से जुड़ा एक दस्तावेज प्रधानमंत्री कार्यालय में है। यह याचिका 'सीआईएज आई आन साउथ एशिया' नामक पुस्तक के लेखक अनुज धर ने दी थी। यहाँ यह बताना जरूरी है कि यह वही अनुज धर है जिन्होंने नेताजी सुभाष चंद बोस की गुमशुदगी के रहस्य के विषय में भी काफी शोध किया है और तो और श्री धर के प्रयासों के चलते ही सरकार को बाध्य हो कर मुख़र्जी आयोग को ताइवान जाने की अनुमति देनी पड़ी थी |
फैसले के खिलाफ उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय में अपील की थी। इसके जवाब में प्रधानमंत्री कार्यालय की संयुक्त सचिव विनी महाजन ने कहा कि मांगे गए दस्तावेज को आरटीआई की धारा 8 [1] [ए] के तहत गोपनीय रखा जाना सही है।
वर्ष 1965 के भारत-पाक युद्ध के बाद शास्त्री जी ताशकंद गए थे। वहां पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान के साथ उन्होंने वार्ता की थी। दोनों देशों की संयुक्त घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर करने के कुछ ही देर बाद रहस्यमय परिस्थितियों में उनकी मौत हो गई थी।
यह हम सब के लिए बहुत ही शर्म की बात है के अपने ही देश के पूर्व प्रधानमंत्री की मौत का कारण जानना इतना कठिन हो रहा है | और तो और यह भी समझ के परे है कि सरकार कौन से कारणों का हवाला दे रही है जिन की वजह से इस मामले को दबाया जा रहा है 'गोपनीयता बरतने की व्यवस्था' के नाम पर ??

आज पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी के जन्मदिन के अवसर पर मैं सभी मैनपुरी वासीयों की ओर से उनको शत शत नमन करता हूँ |

13 टिप्‍पणियां:

  1. भारतीयों के लिये अफसोसजनक बातें. शास्त्री जी को नमन...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत उम्दा जानकारीपूर्ण आलेख ...
    महात्मा गाँधी और लाल बहादुर जी को जयंती अवसर पर शत शत नमन

    उत्तर देंहटाएं
  3. महात्मा गाँधी और लाल बहादुर जी को जयंती पर शत-शत नमन. बहुत उम्दा आलेख

    उत्तर देंहटाएं
  4. सरकारी बंदिशों के बारे में सरकार जाने.. कई देशप्रेमी इस सच्चे सपूत को याद भी नहीं करते आज के दिन. अच्छा भी है. अगर याद करने लगता देश शास्त्री जी को भी, तो उनको याद करना भी सिर्फ एक फ़ॉर्मेलिटी बनकर रह जाता. शास्त्री जी लोगों के दिल में ज़िंदा रहें, यही बहुत है. श्रद्धान्जलि!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. दो अक्टूबर को जन्मे,
    दो भारत भाग्य विधाता।
    लालबहादुर-गांधी जी से,
    था जन-गण का नाता।।
    इनके चरणों में श्रद्धा से,
    मेरा मस्तक झुक जाता।।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह धरती लालों की जननी ,लालों में लाल समादर थे ,
    छोटे कद में बड़े हुए जो , ऐसे " लाल बहादुर " थे


    लाल बहादुर शास्त्री जी को मेरा शत-२ नमन और शिवम जी आपका भी आभार


    महक

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस महान आत्मा को हार्दिक श्रद्धांजलि !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज भी उनकी म्रत्यु रहस्य ही बनी हुई है ...

    शास्त्री जी को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  9. सिवम बाबू..बहुत सराहनीय काम कर रहे हैं आप!! हर घटना,उपलक्ष्य का अनोखा पक्ष आप प्रस्तुत करते हैं..

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter