सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

गुरुवार, 29 अप्रैल 2010

डिहाइड्रेशन से रहें सावधान


गर्मी में शरीर से पसीने के रूप में काफी पानी निकल जाता है। जिस पर ध्यान न देने से शरीर में पानी की कमी हो जाती है। जब यह कमी स्वास्थ्य को प्रभावित करती है, वही डिहाइड्रेशन कहलाता है।

पानी की कमी से सामान्य शारीरिक गतिविधियां गड़बड़ा जाती हैं। दरअसल, हमारे शरीर को सुचारू रूप से काम करने के लिए समुचित पानी की जरूरत होती है। लेकिन यह कैसे पता चले कि डिहाइड्रेशन का संकट सिर पर खड़ा है? आइए जानते हैं-

लक्षण :-

-अत्यधिक प्यास लगना।

-मुंह और होंठ सूखना।

-मूत्र विसर्जन पीले रंग का होना और उसमें दुर्गध आना।

-लगातार थकान महसूस होना।

-अत्यधिक ठंडा पसीना आना।

डिहाड्रेशन से कैसे बचें? :-

-कम से कम आठ गिलास पानी अवश्य पीएं। गर्मी ज्यादा लगे, तो पानी की मात्रा बढ़ाएं।

-अगर बीमार हैं या व्यायाम करते हैं, तो ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं।

-दूध पीएं।

-आरामदायक वस्त्र पहनें ताकि गर्मी न लगे।

-शर्करा युक्त पेय पदार्थ मसलन नींबू शर्बत, आईस टी ज्यादा न लें।

-अगर बीमार हैं, तो जल एवं सूप की अल्प मात्रा लगातार लेते रहें। भले ही भूख एवं प्यास न लगी हो।

-सब्जियां और फल खाएं।

-गर्मी या दस्त लगने की दशा में तत्काल डाक्टर से संपर्क करें।

5 टिप्‍पणियां:

  1. इस जनोपयोगी जानकारी के लिये शुक्रिया जी

    प्रणाम स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर जान्कारी दी आप ने

    उत्तर देंहटाएं
  3. bade utsaah ke saath padna chah rahi thi lekin font theek nahi hai...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बबिता जी,
    अगर आप opera में ब्लॉग खोल रही है तो यह प्रॉब्लम आ सकती है ! आप हो सके तो firefox या flock का प्रयोग करे !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter