सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

गुरुवार, 11 जून 2009

कलावती को भूले राहुल लाला ....पर क्यों भला ???

साभार राम त्यागी :- "मेरी आवाज़"





जब वोट की जरूरत थी तब राहुल को कलावती की याद आई और जब उसके मुद्दों को सुलझाने की बात आई तो राहुल जी व्यस्त थे। ये कहानी इस परिवार के असली चेहरे को व्यक्त कराती है। इन लोगो की कथनी और करनी में अन्तर की वजह से ही भारत विश्व के अन्य देशो की तुलना में इतना पीछे रह गया है। अमेठी जहाँ से ये लोग जन प्रतिनिधि है, वहां की स्थिति इस बात को सिद्ध करती है की इनके खाने और दिखने के दांत अलग अलग है। CNN IBN की ये रिपोर्ट भी देखें -

http://ibnlive.in.com/videos/94536/mascot-kalavati-turned-away-from-rahuls-office.html



नीचे ibnlive.in से लिए गए कुछ अंश पेश कर रहा हूँ |


Last year, Rahul Gandhi made Kalavati – a Dalit woman from a nondescript village in Uttar Pradesh – famous in Parliament and across India, making her a symbol of UPA's governance challenge.
Many months have passed and Kalavati seems to have been relegated to those video-taped recordings of that fiery speech.
On Tuesday, Kalavati was in Delhi, demanding the better life promised to her by Rahul Gandhi.
“I am here to remind Rahul Gandhi of the promises he made to me, nothing has changed in my life, I continue to live without a house, without healthcare in my village,” she said in a press conference.
Rahul Gandhi stayed in Kalavati's house in May 2008 where she lived with her nine children.
Her husband is dead, one of the thousands of farmers who committed suicide in Vidarbha.
After the visit, she hoped that the Government would help get her life back in order but it seems the “Rahul Gandhi” tag was not enough to bring real change in her life.
“Wherever she goes now the administration says Kalavati, Why don’t you go and ask Rahul Gandhi himself,” says Jitendra Deshmukh , the activist who is helping Kalavati voice her concerns in public.
But Rahul Gandhi’s office says the young MP is too busy for an appointment.
Bharat Nirman - building a new India - was a catchphrase of the UPA during the election campaign। Many feel the least the Government could do to implement this is to start by helping Kalavati to a house and a better life.




केवल किसी परिवार में जन्म लेने से कुछ लोग मसीहा बन जाते है, हम लोगो को देश में लोगो को शिक्षित करनेके लिए कुछ प्रयास करने होंगे जिससे लोग इन लोगो का मूल्यांकन उनके विकास के प्रष्ठभूमि के आधार पर कर सकें। अशिक्षा हमें बहुत पीछे धकेल रही है और ऐसे अवसरवादी लोगो को हमारा फायदा लेने के लिए अवसर दे रही है।

म्रतभोज और दहेज़ की जगह पैसा किसी गरीब की उन्नति में लगाओ तो वो किसी न किसी रूप में फलीभूत होता दिखेगा , जैसा की आप एक पेड़ लगाकर और जब पेड़ के बड़े हो जाने पर छाया लेकर अनुभव करते है।
चलो कुछ ऐसा ही करें जिससे कलावती को राहुल के चक्कर न लगाने पड़े और वह आत्मनिर्भर बने स्वाभिमान से जीने के लिए । हमें युवराज नही जन सेवक चाहिए, राहुल और सिंधिया को महलों में भेज देते है आराम करने के लिए इस सलाह के साथ कि बस बहुत हुआ अब नाटक और नहीं !!!!!

5 टिप्‍पणियां:

  1. हर सबे गम की सहर हो ये जरुरी तो नहीं.नीद तो दर्द के बिस्तर पर भी आ सकती है.उसकी आगोश में सिर हो ये जरुरी तो नहीं......और फिर दोस्त नए परिंदों को उड़ने में वक़त तो लगता ही है.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुझे आपका ब्लॉग बहुत अच्छा लगा! बढ़िया पोस्ट के लिए बधाई!
    मेरे ब्लोगों पर आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. Dear Shivam, you copied this posting from my blog and did not even mention my name ...its full copy of my post - "http://meriawaaj-ramtyagi.blogspot.com/2009/06/blog-post_09.html"

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बहुत आभार आपका, आप ने मुझे अपनी भूल सुधारने का एक मौका दिया ...............यह पोस्ट उस समय की है जब मैंने ब्लॉग्गिंग जगत में कदम ही रखा था और केवल पोस्टो को पढ़ा करता था, कोई पोस्ट पसंद आगई उसको अपने ब्लॉग पर भी पोस्ट कर दिया | बहुत बहुत धन्यवाद एक बार फिर .................और हाँ आप ने लिखा बहुत बढ़िया था !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. धन्यवाद, मैंने नोटिस किया तो सोचा आपसे विनम्र भाव से बोल दूं और आपने भी उसी भाव से गलती स्वीकार कर के उचित काम किया है.
    ये तो बढ़िया रहा, अगर आप साभार पर लिंक भी चस्पा कर दिया करें तो पड़ने वाले चाहें तो उस व्यक्ति की वेबसाइट को visit कर सकते है.
    चलो संपर्क में ही रहें...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter