सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शनिवार, 1 मई 2010

अरे हुज़ूर, वाह ताज बोलिए - अब सोलर लाइट में जगमगाएगा ताजमहल


रात के अंधेरे में डूबा रहने वाला ताजमहल जल्द ही सोलर रोशनी से जगमगाएगा। शासन ने विश्वदाय स्मारकों पर सौर ऊर्जा चलित उपकरणों के लिए सवा तीन करोड़ रुपये मंजूर किए हैं। अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण से इस संबंध में कार्ययोजना मांगी गई है। धनराशि आवंटित होने के बाद स्मारकों को सोलर सिस्टम से जगमगाने की तैयारी शुरू हो जाएगी।

राष्ट्रमंडल खेलों के लिए केंद्र सरकार तमाम योजनाएं बना रही है। इस दौरान आगरा में एक लाख से अधिक पर्यटकों के आने की संभावना है। लिहाजा भारत सरकार के नवीन एवं नवीनीकरण ऊर्जा मंत्रालय ने व‌र्ल्ड हेरिटेज स्मारकों को अबाध विद्युत आपूर्ति देने की तैयारी की है। इसी कड़ी में सोलर सिस्टम की योजना बनाई गई है ताकि बिजली जाने पर पर्यटकों को किसी प्रकार की परेशानी न होने पाए। रात में स्मारकों को सोलर लाइट से रोशन किया जाएगा। केंद्र ने इसके लिए सवा तीन करोड़ रुपये के प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी है। इसमें ताजमहल, आगरा किला, फतेहपुर सीकरी के लिए एक-एक करोड़ रुपये और सिकंदरा में 25 लाख रुपये से स्मारकों में सोलर उपकरण लगाए जाएंगे।

नेडा के परियोजना अधिकारी अतुल जैन ने बताया कि प्रस्ताव मंजूर हो गया है और शासन ने डीपीआर मांगी है। जल्द ही वह कार्ययोजना बनाकर केंद्र सरकार को देंगे और इसके बाद धनराशि जारी हो जाएगी। उन्होंने बताया कि स्मारकों पर 52 बिंदुओं पर कार्य किया जायेगा |

इस के बाद तो सच में कहा जा सकता है कि ' अरे हुज़ूर , वाह ताज बोलिए !!'

2 टिप्‍पणियां:

  1. यह सोलार सिस्टम इन्हे तो रोशनी दे या ना दे लेकिन नेताओ ओर अफ़सरो को एक बार फ़िर से घर रोशनी करने का मोका दे रहा है... यानि इन लोगो कि मोजां ही मोजां

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter