सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शनिवार, 14 मई 2011

काश ऐसा हो जाए ...

कल बंगाल की जनता ने एक बदलाव की घोषणा की है ...
एक बदलाव हम भी चाहते है ...
 
  आप की क्या राय है ???

7 टिप्‍पणियां:

  1. जिस दिन गाँधी जी नोटों पर अवतरित हुए उसी दिन उनके आदर्श इस देश से गायब हो गये देश में गाँधी जी का नाम है गांधीवाद है अब तो गांधीगिरी भी आ गई पर उनके आदर्श और उनके बताये रास्ते तो कब के खो गये अब ये बुरा हाल किसी और शहीद का न करिये |

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो है वो बुरा नहीं है।
    यह ख्याल बुरा नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये तस्वीरें और इनके आदर्श हर सच्चे भारतीय के दिल पर अंकित होने चाहिये फिर भले ही नोट पर हों या न हों, कोई फर्क नहीं पड़ता.

    उत्तर देंहटाएं
  4. गज़ब शहीदों को हर दिल में जगह मिलनी चाहिए ! ! शुभकामनायें आपको !की लेखनी है भाई जी ! शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  5. डाक टिकटों की तरह नोटों और सिक्कों की ऐसी शृंखलायें निकाली जा सकती हैं जो हुतात्माओं को समर्पित हों।

    उत्तर देंहटाएं
  6. badiya vichar hai, par amal hone main kafi time lag jayega

    उत्तर देंहटाएं
  7. शहीदों को हर दिल में जगह मिलनी चाहिए...शिवम् जी

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter