सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

सोमवार, 14 फ़रवरी 2011

क्या प्यार सच में सिर्फ़ एक 'केमिकल लोचा' है -- आप बताएं !!??

कहते हैं कि प्यार एक ऐसा अनमोल तोहफा है, जो जीवन को खुशियों से भर देता है। मगर वैज्ञानिकों का दावा है कि प्यार-व्यार कुछ नहीं होता, बस दिमाग में होने वाली एक रासायनिक क्रिया है।

वेलेंटाइन डे के मौके पर चीनी विशेषज्ञों ने पहली नजर के प्यार का राज खोला है। उनका दावा है कि यह दिमाग में कुछ रसायन और हार्मोन के मिलने से होने वाली रासायनिक क्रिया है। उनका कहना है कि प्यार का एक शानदार अहसास के अलावा कोई अस्तित्व नहीं है। आम तौर पर लोग मानते हैं कि खूबसूरत लड़की और हेंडसम लड़कों से अक्सर प्यार हो जाता है। किसी को किसी की आवाज भाती है, तो कोई आंखों पर फिदा हो जाता है, लेकिन वैज्ञानिकों का दावा है कि प्यार के लिए व्यक्ति की बाडी लेंग्वेज, बोलने का अंदाज और उसका स्पर्श ज्यादा मायने रखता है। इनके अलावा सबसे महत्वपूर्ण होते हैं फेरोमोन्स। शरीर में स्रावित होने वाले यह रसायन व्यक्ति के सामाजिक जीवन को प्रभावित करते हैं।
पेकिंग यूनिवर्सिटी के मनोविज्ञान विभाग के प्रोफेसर माओ लिहुआ का कहना है कि जिसे हम प्यार मानते हैं, दरअसल वो हमारे दिमाग के अनुभव के अलावा कुछ नहीं है।

यूं होता है 'प्यार': - 

किसी के प्रति आकर्षित होने पर जब तंत्रिका तंत्र के जरिए फेरोमोन्स दिमाग में पहुंचकर पियुष ग्रंथि से निकलने वाले हार्मोन के स्रावण को बढ़ाते हैं। इससे दिल की धड़कन तेज होने के साथ सांसों की गति भी बढ़ जाती है। रक्त का संचार शरीर में तेजी से होने लगता है और आखिर में हथेली पसीजने के साथ ही प्यास लगने लगती है। व्यक्ति का दिमाग इसे प्यार मान बैठता है, जबकि असलियत में यह एक रसायनिक क्रिया है।

चलिए जाने दीजिये इनको ... आप बताएं ... आप क्या सोचते है ... क्या है प्यार  -- एक अनोखा अहेसास या सिर्फ़ एक  'केमिकल लोचा' ??

15 टिप्‍पणियां:

  1. कुल मिला कर "दीमागी फ़ितुर" है।
    चीनियों से पहले तो हमने बता दिया था। :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. केमिस्ट्री तो वैसे भी हमारा सब्जेक्ट है.. इसलिये अगर चीनी न भी कहें तो हम तो इसको केमिस्ट्री ही कहेंगे!!वैसे इसका सम्बंध दिमाग़ से नहीं लिवर से है... यह भी वैज्ञानिक तथ्य है!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने तो इस भावनात्मक संबंध की वैज्ञानिक व्याख्या कर डाली।
    अच्छा लगा।
    ज़ूलोजी का छात्र रहा हूं।
    .... पर न जाने क्यों मन इसे केमिकल लोचा मानने से इंकार करता है, पर सच तो यही है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. केमिकल लोचा ही लग रहा है इस लेख को पढकर तो..

    उत्तर देंहटाएं
  5. अब मैं क्या बताऊँ?...मुझे तो हर चौथी लड़की से हो जाता है ..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. शिवम भाई ... लोचा तो सारा ऊपरवाले का है। ये केमिकल भी और प्रेम भी... शेष तो भौतिक जगत से जुडने का जरिया यही शरीर और पाँच ज्ञानेंद्रियाँ हैं। और सारे खेल इसी लेवल पर होते हैं।
    उम्दा जानकारी का आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. अरे बाबा यह रासायन मेरे दिमाग मे बहुत ही ज्यादा भरा पडा हे, ओर क्रिया भी खुब होती हे....सच ने यह कोई केमिकल लोचा ही हे...
    धन्यवाद उस आवाज को बंद करने के लिये, बहुत तंग करती थी,आप उसे लगाओ जिस ने सुनाना हे खुद आन कर लेगा, फ़िर से धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. लोचा ही होगा..ऐसा ही मान कर चलते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हा हा, :-)
    सबसे ज़्यादा परेशानी तो चचा गालिब को होगी... बेचारे लेवल-२ के दिमागी मरीज़ हो गये।

    अपनें केस में तो अब डील क्लोज़ कर चुके हैं.. तो लोचा ही मान लेनें में भलाई है :-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. अब विद्वान् लोग कह रहे हैं तो कुछ तो सच्चाई होगी ही.

    उत्तर देंहटाएं
  11. जिन्‍हें प्‍यार नहीं मिलता, वे इसे केमिकल लोचा मानते हैं और जिन्‍हें मिल जाता है, वे कुछ सोचने लायक ही नहीं बचते हैं।

    ---------
    अंतरिक्ष में वैलेंटाइन डे।
    अंधविश्‍वास:महिलाएं बदनाम क्‍यों हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेशक, प्यार एक अनोखा एहसास है.... वैसे प्यार में लोचा तो होता है है.... अब केमिकल लोचा भी सामने आगया है.... :-) :-) :-)

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter