सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

गुरुवार, 20 दिसंबर 2012

क्या सच मे किसी को फर्क पड़ता है !!??


"कल तक सबको 'उस' के दर्द का अहसास था ;
आज सब को अपनी अपनी जीत का अभिमान है !!
कल जहां रेप पीड़ितों की सूची थी ...
उन्ही मेजों पर आज नए विधायकों की सूची तैयार है !!
किसी चैनल , किसी सभा मे 'उसके' बारे मे कोई सवाल नहीं है ;
बहुतों के तन पर नई नई खादी सजी है
तभी तो सफदरजंग के आगे पटाखों की लड़ी जली है ... 
बेगैरत शोर को अब किसी का ख्याल नहीं है !!
जो लोग रोज़ लोकतन्त्र को नंगा करते हो ... 
उनको एक महिला की इज्ज़त जाने का अब मलाल नहीं है !
'तुम' जियो या मारो ... 
किस को फर्क पड़ता है ... 
आओ देख लो अब यहाँ कोई शर्मसार नहीं है !!
दरअसल 'तुम्हारी' ही स्कर्ट ऊंची थी ... 
'इस' मे 'इनका' कोई दोष नहीं ...
"जवान लड़की को सड़क पर छोड़ा ... 
क्या घरवालों को होश नहीं"
"लड़का तो 'वो' भोला था ... 
यह सब चाउमीन की गलती है ... 
वैसे एक बात बताओ लड़की घर से क्यों निकलती है ??"
चलो जो हुआ सो हुआ उसको भूलो ...
भत्ते ... नौकरी सब तैयार है ...
बस 'तुम' मुंह मत खोलो ...
तुम्हारी चीख से मुश्किल मे पड़ती सरकार है ...
अगली जीत - हार के लिए इनको तुम्हारी दरकार है ...
गुजरात - हिमाचल से निबट लिए  ...
अब दिल्ली की बारी है ...
चुनावी वादा ही सही पर यकीन जानना ...
दोषियों को छोड़ा न जाएगा यह मानना ...
हम सब तुम्हारे साथ है डरना मत ...
पर बिटिया अंधेरे के बाद घर से निकलना मत ...
अंधेरा होते ही सब समीकरण बदल जाते है ...
न जाने कैसे ...
हमारे यह रक्षक ही सब से बड़े भक्षक बन जाते है ...
कभी कभी लगता है यह वो मानवता के वो दल्ले है ...
जिन्होने हर चलती बस - कार मे ...
खुद अपनी माँ , बहन , बीवी और बेटी ...
नीलाम कर रखी है !!

 -स्वरचित

35 टिप्‍पणियां:

  1. आज कल मन बडा खिन्न है.. समाचार चैनल गिनती बताते हैं की फ़लां फ़लां राज्य में बलात्कार और लूट-खसोट का क्या आंकडा है।

    "रमन्ते तत्र देवता" केवल किताब में है.... असल में हम न जानें किस ओर बढ रहे हैं........

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. यही तो समझ नहीं आता कि यह होता क्या जा रहा है समाज मे !

      हटाएं
  2. bahut sach...
    neta, media... sab ke sab bik chuke.. sabko bas khud ki dikhti hai.. aur TRP..
    gairat ki baat hi nahi rahi to kya kahun...
    aapkee puri rachna... meri jubani hai, bas mere pass shabd nahi the, aapne shabd diya...:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक बहुत ही बेहतरीन प्रयास भाई शिवम | बहुत ही उम्दा लिखा है आपने | तबियत प्रसन्न हो गई | इस तरह के विचारों वाली टिपण्णी मैं कल कर चुका था फसबुक पर तो आज आपने इससे कविता के माध्यम से ढाल कर बात सत्य कर दी | मिडिया का जो सच अपने इस कविता के माध्यम से उजागर किया है वो अत्यंत सराहनिय प्रयास है | बस इतना कहूँगा के:

    कल यह सुना रहे थे दुखड़े
    आज चमचम हैं मुखड़े
    कौन सा नेता कैसे जीता
    दिखा रहे सब के लफड़े
    चिंता नहीं किसी को अब, उसकी
    जो कल सबको प्यारी थी
    उसका कोई मोल नहीं अब
    वो कौन बेचारी दुखियारी नारी थी
    कैसा गज़ब ये खेला है भैया
    नहीं किसी से यारी जी
    कल तेरी बारी थी मुनिया
    आज किसी की है बारी
    यह मिडिया, कहता है 'निर्जन'
    बहुत बुरी बीमारी जी
    बहुत बुरी बीमारी जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. kavita udwelit kar rahi hai shivam bhai, lekin yah jo instant reaction wala trend hai wah gambhirta se sochne nahi deta kisi mudde par. pareshani kahin aur hai. ghatnayen to kewal prateek hain. karano par chot kiye bina sambhav nahi ki ham kuritiyon ko khatm kar saken.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हम सब को अब एक साथ आवाज़ उठानी होगी !

      हटाएं
  5. क्या कहें ..वेदना को मार्मिक शब्द दिए हैं.

    उत्तर देंहटाएं

  6. जिस लड़की की छोटी आंत निकाल दी गई ....... :'( जिसे जीवन भर तरल पदार्थ पर रहना पडेगा ........ :'( बोल नहीं सकती ......... :( अब कोई सर्ज़री सहने लायक नहीं है ... :'(

    वैसी लड़की किस काम की .......... :'( जिसकी चर्चा मिडिया प्रेस नेता करे ...........................

    उसके लिए हम हैं न

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत मार्मिक रचना है. सच में, आज किसी चैनल पर उस लड़की से सम्बन्धित कोई समाचार नहीं है, जैसे किसी को कोई फर्क ही नहीं पड़ता है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. अत्यंत मार्मिक रचना .....ऐसे हादसे अंतस हिला देते हैं ....ईश्वर उसकी रक्षा करें यही प्रार्थना है .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. Kisi ko koi farq nahi padta na neta ko na aam aadmi ko hi aam aadmi bas 2-4 char din chilla kar chup ho jata hai neta aashwasan dekar chup ho jata hai fir usi dharre pe zindagi chalne lagti hai fir kabhi jb aisi dardnak ghatna hogi tb phir chillayenge phir chup ho jayenge bas yahi chalta rahega aise hi Mera Bharat Mahan kahlata rahega

    उत्तर देंहटाएं
  10. शर्मनाक सच...... यही तो समस्या है ..... हम खुद ही इन व्यापारियों के हाथों में अपना भविष्य सौंप रहे हैं ..... कल भी वोट की कीमत थी और आज भी हम अपने सबसे कीमती वोट लुटा रहे हैं और अपनी बरबादी का जश्न मना रहे हैं ....... फिर ये बेवज़ह का रोना पीटना कैसा .... ?????????

    उत्तर देंहटाएं
  11. यकीन नहीं होता है .....कि यह 21वीं सदी का भारत है ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. "कल तक सबको 'उस' के दर्द का अहसास था ;
    आज सब को अपनी अपनी जीत का अभिमान है !!
    कल जहां रेप पीड़ितों की सूची थी ...
    उन्ही मेजों पर आज नए विधायकों की सूची तैयार है !!

    कल लोग इस घटना को भूल भी जाएंगे .... शिंदे कहते हैं कि हम देखेंगे कि बस में रेप न हो .... यानि कि और जगह हो तो कोई फर्क नहीं पड़ता ... राहुल गांधी को प्रधानमंत्री के पद के लिए तैयार किया जा रहा है जो खुद बलात्कार केस के दोषी हैं .... क्या होगा देश का ?

    उत्तर देंहटाएं
  13. हां ये सच है बिल्कुल सच कि उस लडकी की फ़िक्र चिंता किसी को भी नहीं है क्योंकि वो एक आम आदमी की बहन और बेटी थी किसी बडे रसूखदार की संतान नहीं । यही सच है इस घिनौने समाज का और इसकी बीमार मानसिकता का

    उत्तर देंहटाएं
  14. क्या कहा जाए.. तभी तो मैं कहता हूँ कि इन घटनाओं पर बस कुछ दिनों तक चर्चा होती है और फिर लोग "बड़े-बड़े शहर में ऐसी छोटी-छोटी घटनाएँ होती ही रहती हैं" कहकर भूल जाते हैं.. इसीलिये मैं अधिकतर खामोश रहता हूँ, दुखी की पीड़ा कोई नहीं बाँट सकता, कम से कम मन से प्रार्थना तो कर सकते हैं!!
    बहुत अच्छी रचना.. मगर आपने स्वरचित क्यों लिखा यह समझ में नहीं आया!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सलिल दादा, 'स्वरचित' लिखने के पीछे 2 कारण है ... पहला यह कि मेरे इस ब्लॉग मे काफी सारी ऐसी पोस्टें है जिन मे दूसरे की लिखी रचनाएँ भी है !
      दूसरा कारण यह कि यह रचना जैसे अपने आप ही लिख गई यह अलग बात कि कीबोर्ड पर उँगलियाँ मेरी चल रही थी पर शब्द न जाने कहाँ से अपने आप आते जा रहे थे ... पिछले २ ३ दिनों की घटनाएँ काफी बेचैन किए हुये थी ... इस के बाद थोड़ा हल्का महसूस कर रहा हूँ !

      हटाएं
  15. सटीकता से यथार्थ को रखा आपने!!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. उत्तर
    1. हम तो इतना जानते है कि "उसे" इंसाफ नहीं मिला !

      हटाएं
  17. नारी हो न निराश करो मन को - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter