सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

मंगलवार, 2 अगस्त 2011

वो अन्ना तो पागल है ...

आज फेसबुक देखे ... साला सब शेर शेर कर के डरा रहा है हम को ...
तो लो भईया ... एक हम भी सुनते है ... शेर नहीं है ... अब इतनी महगाई में शेर कहाँ से लायें ... हम तो भईया सिर्फ़ अपने दिल की सुनते है और अपने शहर का हाल कुछ यूँ बताते है ...

तो जनाब अर्ज़ किया है कि ...
यहाँ खुदा ... वहाँ खुदा ... कहाँ कहाँ नहीं खुदा ... 

और जहाँ नहीं खुदा वहाँ कल खुदा होगा ...
 
क्यों कि मैनपुरी में सीवर लाइन का कार्य प्रगति पर है ... 

जनता परेशान ... मिडिया चुप और अधिकारी ... दिन ओ रात तरक्की पर है ... 

स्विस बैंक की जरुरत नहीं इनको ... आईसीआईसीआई से काम चलता है ... 

५ बोरी सीमेंट में ५० बोरी बालू ... अरे बाबूजी इतना तो चलता है ... 

'भारत निर्माण ' में यह लोग भी अपना योगदान लगा रहे है ... 

जहाँ कहीं से भी आवाज़ उठे ... 

हाल उसको दबा रहे है ... 

वो अन्ना तो पागल है जो फिर अनशन पर बैठेगा ... 

नगर पालिका के आगे देखो गांधी खुद कैद में दिखेगा ... 

- शिवम् मिश्रा 

( मैनपुरी नगर पालिका के आगे गाँधी की मूर्ति आजकल एक कांच के पिंजरे में है ... फिलहाल फोटो नहीं थी ... पर जल्द ही आपको फोटो भी दिखाऊंगा ... अभी तो जो मन में आया उसको लिख डाला  )

12 टिप्‍पणियां:

  1. कविता तो जबरदस्त बनी है....
    क्या भयंकर तुकबन्दी लगाई है भाई....

    वैसे मायावती के राज में गांधी जी को शीस महल मिल गया.... चित्र जल्दी लगाईए....

    उत्तर देंहटाएं
  2. हा हा हा जोरदार कविता मारे।

    मस्त है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ओह्ह !!! बहुत जोर से कविता आ रही थी लगता है.... एकदम से भरभरा के गुबार बाहर निकला है... लिखिए लिखिए खूब लिखिए....फोटुआ भी दिखाईएगा,...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सारी 'खुदाई' एक तरफ और मैनपुरी वाले हमारे भाई एक तरफ!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सब कुछ खोद डाला है

    अब बारिश को भी रोकिए

    चाहे खुदा को ही कुरेदिए

    उत्तर देंहटाएं
  6. ब्लॉग के रंगों में रंगी, कविता की तरंग।

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमारे यहाँ भी यही बुरा हाल है हर तरफ खुदा है और बस उसकी खुदाई है |

    उत्तर देंहटाएं
  8. व्यंग्य मस्त है,
    अंदाज़ अलमस्त है,
    बीच में आ गए बेचारे अण्णा
    हर कोई वेबश है और अनमना
    कविता अच्छी है
    और सच्ची है !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही बढ़िया, ज़बरदस्त और शानदार तरीके से व्यंग्य किया है आपने! लाजवाब प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  10. जे बात इसे कहते हैं धोबी पछाड ..सीधी नीचे से हाथ दे के उठा के पटक देना ...इसमें हमको तो खूब भला लगा आप जिसको जुतियाए हैं उनको बुरा लगा होगा ...भला-बुरा

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter