सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शुक्रवार, 16 मार्च 2012

आज मैं खौफजदा हूँ !

यादों की गालियों मे अक्सर अंधेरा होता है ... 

और सुना है कि ...

अंधेरे और खौफ का चोली दामन का साथ होता है ... 

शायद इस लिए ही आज मैं खौफजदा हूँ !

6 टिप्‍पणियां:

  1. अँधेरा सदा से भय का प्रतीक रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अँधेरा जब बहुत गहन हो ,समझ जाएँ उजाला होने ही वाला है ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अँधेरे और उजाले में सिर्फ मात्रा का अंतर है.. वैसे ही डर के आगे जीत है!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. तभी तो रास्ते हैं , मंजिलें हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. नयी रौशनी का लाना होगा ... सबको प्रयास करना होगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अँधेरे को मिटाने के लिए के दिया तो जलाएंगे, सुबह होने का इंतज़ार है फिर खुशिया तो मनाएंगे ......

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter