सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शुक्रवार, 3 दिसंबर 2010

बीमा कराइए, बेफिक्र हो शादी रचाइए

शादी-ब्याह रचाना कोई गुड्डे गुड़ियों का खेल नहीं। शादी के खर्च और जिम्मेदारियों को देखते हुए ऐसी कहावतें अक्सर कही जाती हैं। मगर अब बीमा कंपनियों ने शादी के आयोजन को आसान बना दिया है। दरअसल बीमा कंपनियां अब शादी का बीमा भी करने लगी हैं। यानी शादी के आयोजन में किसी चीज के टूटने-फूटने, चोरी, आग लगने या लूटपाट जैसी वारदात होने पर सारा नुकसान बीमा कंपनियां उठाएंगी। यही नहीं, अगर वर-वधू, अभिभावक या भाई-बहनों की दुर्घटना की वजह से शादी की तारीख बदल जाए तो शादी से जुड़े आयोजन का पूरा पैसा भी बीमा कंपनी भुगतान करेगी।

देश में होने वाली खर्चीली और भव्य शादियों को सुरक्षित बनाने के लिए बजाज आलियांज और आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल ने इस बीमा योजना को बाजार में उतारा है। बजाज आलियांज ने 20 लाख, 35 लाख, 53 लाख और 83 लाख रुपये का विवाह बीमा पेश किया है। जिसका प्रीमियम क्रमशः 2850, 5200, 8600 और 11,200 रुपये तय किया गया है। कंपनी के मार्केटिंग प्रमुख अक्षय मेहरोत्रा ने बताया कि इस योजना को सिक्योर्ड वेडिंग प्लान के नाम से पेश किया गया है। इसमें शादी से जुड़ी किसी भी तरह की अनहोनी का सारा जिम्मा बीमा कंपनी उठाएगी।

उन्होंने बताया कि अगर किसी कारणवश शादी टल जाती है तो पहले से सुरक्षित किए गए आयोजन स्थल, खाना, पंडाल, बैंड बाजा व गाड़ी या ऐसी दूसरी व्यवस्थाओं में लगी रकम का पूरा भुगतान कंपनी करेगी। अमूमन प्रत्येक घर में शादी के दौरान नकद रुपये और जेवरात रखे होते हैं। बकौल मेहरोत्रा इनकी सुरक्षा का जिम्मा भी प्लान में सम्मिलित है। कुछ इसी तरह आईसीआईसीआई ने भी अपना प्लान निकाला है। दोनों कंपनियों के मुताबिक इस बीमा दावे का निपटारा सात से दस दिनों के अंदर किया जाएगा। जिससे आगामी तैयारी में अड़चन नहीं आए।

6 टिप्‍पणियां:

  1. शिवम भाई, अपनी तो हो गई, अब जिनकी होनी है, उनक लिए तो यह अच्‍छी खबर है ही। शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दुत्तेरी सिवम बाबू!हमको लगाकि कोनो ऐसा इंसोरेंस आया है जिससे सादी टूटबे नहीं करेगा... लेकिन चलिये ई भी काम का इसोरेंस है... अभी त हमको देरी लगेगा ई वाला बीमा कराने के लिए!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. शिवम जी

    अच्छी जानकारी दी आप ने | पर कुछ और सवाल है हो सके तो बिमा करने वालो से पूछियेगा |

    जब लडके वाले बारात लाने के बाद एन मौके पर और दहेज़ की मांग करेंगे तो क्या वो उसे देगा ?

    या दहेज़ की रकम पूरी ना मिलने पर बारात लौटा ले जाने की धमकी देगा तो उसे दहेज़ देकर शादी कराएगी या शादी ना होने पर बिमा की रकम देगी ?

    शादी के मंडप में कोई और लड़की आ कर दुल्हे की पहली पत्नी होने का दावा करेगी तब बिमा कवर होगा ?

    या लड़की शादी के मंडप में दुल्हे के शराब पी कर मंडप में आने से या उसमे कोई शारीरिक मानसिक खराबी देख कर उससे शादी से इंकार कर देगी तो भी बिमा कवर होगा य किसी नए दुल्ले हा इंतजाम करेगी ?

    भारतीय शादियों में तो बहुत सारे लफड़े होते है दुल्ले के सगे सम्बन्धियों को ठीक से खातिर ना हो तब भी बारात वापस चली जाति है |

    उत्तर देंहटाएं
  4. ओहो अब तो बहुत देर हो गई और दूसरी शादी करने की हिम्मत नहीं है ... बढ़िया जानकारी !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया जानकारी दी है शिवम् भैया ! बहुत आवश्यक है यह ! शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter