सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

रविवार, 22 अक्तूबर 2017

अमर शहीद अशफाक उल्ला खाँ की ११७ वीं जयंती

“ जाऊँगा खाली हाथ मगर,यह दर्द साथ ही जायेगा;जाने किस दिन हिन्दोस्तान,आजाद वतन कहलायेगा।

बिस्मिल हिन्दू हैं कहते हैं, फिर आऊँगा-फिर आऊँगा; ले नया जन्म ऐ भारत माँ! तुझको आजाद कराऊँगा।।
जी करता है मैं भी कह दूँ, पर मजहब से बँध जाता हूँ; मैं मुसलमान हूँ पुनर्जन्म की बात नहीं कह पाता हूँ।
 
हाँ, खुदा अगर मिल गया कहीं, अपनी झोली फैला दूँगा; औ' जन्नत के बदले उससे, यक नया जन्म ही माँगूँगा।। ”

 
अमर शहीद अशफाक उल्ला खाँ जी को उनकी ११७ वीं जयंती पर सादर शत शत नमन !

इंकलाब ज़िंदाबाद !

4 टिप्‍पणियां:

  1. या खुदा ..दे दे आजाद भारत की जमी पर फिर से जन्म ....यही निकलता है दिल से .... जब ऐसे जज्बात पढ़ता हूं..

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, ११७ वीं जयंती पर अमर शहीद अशफाक उल्ला खाँ को ब्लॉग बुलेटिन का सलाम “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter