सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

गुरुवार, 5 जनवरी 2012

सैनिक धर्म

मैं भारत माँ का प्रहरी हूँ , घायल हूँ पर तुम मत रोना,
साथी घर जाकर कहना , संकेतों में बतला देना,
यदि हाल मेरे पिताजी पूछे तो,
खाली पिंजरा दिखा देना,
इतने पर भी वह न समझे तो
... तो होनी का मर्म समझा देना
यदि हाल मेरी माताजी पूछे तो
मुर्झाया फूल दिखा देना
इतने पर भी वह न समझे तो
दो बूंद आंशु बहा देना
यदि हाल मेरी पत्नी पूछे तो,
जलता दीप बुझा देना
इतने पर वह न समझे तो
मांग का सिंदूर मिटा देना
यदि हाल मेरा बेटा पूछे तो
माँ का प्यार जाता देना
इतने पर वह न समझे तो
सैनिक धर्म बतला देना ...

( आज फेसबुक के हल्ला बोल क्लब पर Shiv Pratap Singh Srinet जी के प्रोफाइल पर यह कविता दिखी तो मन में आया कि यह आप सब तक भी पहुंचनी चाहिए ... सो उनसे आज्ञा ले कर यहाँ प्रस्तुत कर दी )
 
जय हिंद ... जय हिंद की सेना !!!

14 टिप्‍पणियां:

  1. शायद इसकी प्रशंसा मे शब्द कम हैं..... बहुत अच्छी प्रस्तुति.... हम केवल लाईक किये और आप ब्लाग पर ले आए..... वाह शिवम भईया आज लाज़वाब हैं.... :-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर कविता है, कई दिनों से ढूंढ रहा था। बचपन में पढी थी। आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह कविता सिर झुकाने वाली वाली है!! आज बी.एस.एफ. हेडक्वार्टर्स में भी जलसा जैसा कुछ था.. उधर से ही आ रहा हूँ अभी!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सर झुक जाता है श्रद्धा से ऐसी रचनाओं पर.

    उत्तर देंहटाएं
  5. माँ का विश्वास है ... सारे धर्म निभाएगा

    उत्तर देंहटाएं
  6. us shwet himon par hari bhuja se laal rang jab girta hai..balidaan amar ho jaata hai, tab ek tiranga banta hai...sainik ko salaam , jo seema par hain aur jo desh ke andar bhi tainaat hain...bahut sundar rachna...

    उत्तर देंहटाएं
  7. मार्मिक कविता ...

    यद्यपि बहुत पहले सुना था इसे

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक सैनिक के मर्म को उद्धरित करती हुई सुंदर कविता ...........

    उत्तर देंहटाएं
  9. hamare desh ke karndhaar, hame bacha ke rakhne wale ... tumhe naman\!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्या बेहतरीन शब्दों में सैनिक धर्म का मर्म बतलाया है.. बहुत ही बेहतरीन रचना है.. साथ-बांटने के लिए धन्यवाद..

    प्यार में फर्क पर अपने विचार ज़रूर दें...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter