सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

मंगलवार, 19 मई 2009

|| माँ ||




बेसन की सौधी रोटी पर
खट्टी चटनी - जैसी माँ
याद आती है चौका - बासन
चिमटा , फुकनी - जैसी माँ ||

बान की खुर्री खाट के ऊपर
हर आहट पर कान धरे
आधी सोयी आधी जागी
थकी दोपहरी - जैसी माँ ||

चिडियों की चहकार में गूँजे
राधा - मोहन , अली - अली
मुर्गे की आवाज़ से खुलती
घर की कुण्डी - जैसी माँ ||

बीवी , बेटी , बहन , पडोसन
थोडी - थोडी सी सब में
दिन भर एक रस्सी के ऊपर
चलती नटनी - जैसी माँ ||

बाँट के अपना चहेरा , माथा
आँखे जाने कहाँ गई
फटे पुराने एक एल्बम में
चंचल लड़की - जैसी माँ ||


----- निदा फाजली .

3 टिप्‍पणियां:

  1. मेरी माँ और हर माँ को समर्पित |



    || वन्दे मातरम ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब दोस्त.ये बात सही है की इस दुनिया मैं माँ से खुबसुरत कोई नहीं है.निदा फाजली मेरे अज़ीज़ शायर है.कोसिस करें की इनकी कुछ और नज़्म इस ब्लॉग मैं शामिल करें.मेरी और से माँ को शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेसन की सौधी रोटी पर
    खट्टी चटनी - जैसी माँ
    याद आती है चौका - बासन
    चिमटा , फुकनी - जैसी माँ ||
    बहुत सुंदर.. निदा फाजली को जन्म दिन खी बहुत बहुत बधाई/ मुबारक

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter