सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

बुधवार, 11 अप्रैल 2012

बुरा भला है , भला बुरा है - एक रि पोस्ट

भला बुरा , बुरा भला है ,खोटे पर सब खरा भला है |
झूट सच का क्या पता है ,एक गम एक बड़ी बला है ,
चाल ढाल सब एक जैसी ,सारा कुछ ही नापा तुला है |
सच के सर जब धुँआ उठे तो ,झूट आग में जला हुआ है ,
भला बुरा ,बुरा भला है ,खोटे पर सब खरा भला है |
काला है तो काला होगा ,मौत का ही मसाला होगा,
चूना कत्था ज़िन्दगी तो सुपारी जैसा छाला होगा |
पाप ने जना नहीं तो पापियों ने पाला होगा,
भूख से निकल गया था ,भूख से निकला होगा |
भला बुरा , बुरा भला है ,खोटे पर सब खरा भला है |
'वो' जो अब कहीं नहीं है उस पे भी तो यकीं नहीं है ,
रहता है जो फलक फलक पे ,उसका घर भी ज़मी नहीं है |
अक्ल का ख्याल अगर हो , शक्ल से भी हसी नहीं है ,
पहले हर जगह पे था 'वो', सुना है अब 'वो' कहीं नहीं है |
बुरा भला है , भला बुरा है ||

----- गुलज़ार

9 टिप्‍पणियां:

  1. गुलजार के बहाने ..एकदम सच सच.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बुरा भला है , भला बुरा है ||
    बस यही सच है! यही सच है!! यही सच है!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब जब हमारे चचा इसमें शामिल हैं तो सब भला है!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बडी खरी खरी बात है सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. झूट सच का क्या पता है ,एक गम एक बड़ी बला है ,
    चाल ढाल सब एक जैसी ,सच में सीखी कहाँ ये कला है .... ??

    उत्तर देंहटाएं
  6. sach aur jhooth apani apani najar par nirbhar karta hai. ek sach jo mere liye sach hai lekin usako doosare jhooth sabit karne par tul jate hain to vah jhooth hi bana diya jata hai.
    pahali baar isa blog par aayi hoon achchhe uddeshya se isako banaya hai to ham isake sathi hain.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter