सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

गुरुवार, 3 अप्रैल 2014

१०० वीं जयंती पर विशेष - सैम बहादुर ज़िंदाबाद !!

फील्ड मार्शल सैम 'बहादुर' मानेकशॉ
सैम होर्मूसजी फ्रेमजी जमशेदजी मानेकशॉ (३ अप्रैल १९१४ - २७ जून २००८) भारतीय सेना के अध्यक्ष थे जिनके नेतृत्व में भारत ने सन् 1971 में हुए भारत-पाकिस्तान युद्ध में विजय प्राप्त किया था जिसके परिणामस्वरूप बंगलादेश का जन्म हुआ था।


मानेकशा खुलकर अपनी बात कहने वालों में से थे। उन्होंने एक बार तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को 'मैडम' कहने से इनकार कर दिया था। उन्होंने कहा था कि यह संबोधन 'एक खास वर्ग' के लिए होता है। मानेकशा ने कहा कि वह उन्हे प्रधानमंत्री ही कहेगे।
Famous Quotations of Sam Bahadur
  • On the military knowledge of politicians: "I wonder whether those of our political masters who have been put in charge of the defence of the country can distinguish a mortar from a motor; a gun from a howitzer; a guerrilla from a gorilla, although a great many resemble the latter."
  • On being asked by Indira Gandhi if he was ready to fight on the eve of the Indo-Pakistani War of 1971: “I am always ready, sweetie."
  • On being asked, had he opted for Pakistan at the time of the Partition in 1947, he quipped, “then I guess Pakistan would have won (the 1971 war)"
  • On being placed in command of the retreating 4 Corps during the Sino-Indian War of 1962: “There will be no withdrawal without written orders and these orders shall never be issued.”
  • About the Gurkha: "If a man says he is not afraid of dying, he is either lying or is a Gurkha."
  • To a surgeon who was going to give up on his bullet-riddled body who asked him what had happened and got the reply, “I was kicked by a donkey.” A joke at such a time, the surgeon reckoned, had a chance.
  • After helping an young Indian Army Officer, with his luggage, the grateful officer asked Sam "What do you do here?". Sam replied "I everyday help officers like you with their luggage, but I do in my past time command this Infantry Division"
 ऐसे शेरदिल जाँबाज सेनापति पर देश के हर नागरिक को गर्व होना चाहिए ... आज उनकी १०० वीं जयंती के अवसर पर हम सब फील्ड मार्शल सैम 'बहादुर' मानेकशॉ को शत शत नमन करते है !!

सैम बहादुर ज़िंदाबाद !!
जय हिन्द ... जय हिन्द की सेना !!

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (04.04.2014) को "मिथकों में प्रकृति और पृथ्वी" (चर्चा अंक-1572)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सैल्यूट, मेरे रियल लाइफ़ हीरो के लिये!! ऐसे लोग सौ साल तक ही नहीं, आने वाले कई सौ सालों तक ज़िन्दा रहते हैं!!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter