सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

रविवार, 5 मई 2013

विश्व हास्य दिवस पर विशेष

आज विश्व हास्य दिवस है जो कि विश्व भर में मई महीने के पहले रविवार को मनाया जाता है। इसका विश्व दिवस के रूप में प्रथम आयोजन ११ जनवरी, १९९८ को मुंबई में किया गया था। विश्व हास्य योग आंदोलन की स्थापना का श्रेय डॉ मदन कटारिया को जाता है। हास्य योग के अनुसार, हास्य सकारात्मक और शक्तिशाली भावना है जिसमें व्यक्ति को ऊर्जावान और संसार को शांतिपर्ण बनाने के सभी तत्व उपस्थित रहते हैं। विश्व हास्य दिवस का आरंभ संसार में शांति की स्थापना और मानवमात्र में भाईचारे और सदभाव के उद्देश्य से हुई। विश्व हास्य दिवस की लोकप्रियता हास्य योग आंदोलन के माध्यम से पूरी दुनिया में फैल गई। आज पूरे विश्व में छह हजार से भी अधिक हास्य क्लब हैं। इस मौके पर विश्व के बहुत से शहरों में रैलियां, गोष्ठियां एवं सम्मेलन आयोजित किये जाते हैं।



हास्य दिवस का उद्देश्य

इस समय जब अधिकांश विश्व आतंकवाद के डर से सहमा हुआ है तब हास्य दिवस की अत्यधिक आवश्यकता महसूस होती है। इससे पहले इस दुनिया में इतनी अशांति कभी नहीं देखी गई। आज हर व्यक्ति के अंदर कोहराम मचा हुआ है। ऐसे में हंसी दुनियाभर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार कर सकती है। हास्य योग के अनुसार, हास्य सकारात्मक और शक्तिशाली भावना है जिसमें व्यक्ति को ऊर्जावान और संसार को शांतिपूर्ण बनाने के सभी तत्व उपस्थित रहते हैं। यह व्यक्ति के विद्युत-चुंबकीय क्षेत्र को प्रभावित करता है और व्यक्ति में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है।  जब व्यक्ति समूह में हंसता है तो यह सकारात्मक ऊर्जा पूरे क्षेत्र में फैल जाता है और क्षेत्र से नकारात्मक ऊर्जा को हटाता है।

हास्य एक सार्वभौमिक भाषा है।  इसमें जाति, धर्म, रंग, लिंग से परे रहकर मानवता को समन्वय करने की क्षमता है। हंसी विभिन्न समुदायों को जोड़कर नए विश्व का निर्माण कर सकते हैं। यह विचार भले ही काल्पनिक लगता हो, लेकिन लोगों में गहरा विश्वास है कि हंसी ही दुनिया को एकजुट कर सकती है। मानव शरीर में पेट और छाती के बीच में एक झिल्ली होती है, जो हँसते समय धौंकनी का कार्य करती है। और परिणामतः पेट, फेफड़े और यकृत की मालिश हो जाती है। हँसने से प्राणवायु का संचार अधिक होता है व दूषित वायु बाहर निकलती है। नियमित रूप से खुलकर हँसना शरीर के सभी अवयवों को ताकतवर और पुष्ट करता है व शरीर में रक्त संचार की गति बढ़ जाती है तथा पाचन तंत्र अधिक कुशलता से कार्य करता है।
(मुक्त ज्ञानकोष विकिपीडिया से साभार)
सभी को विश्व हास्य दिवस की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !

10 टिप्‍पणियां:

  1. बेशक हंसने का हमारे जीवन में और स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्त्व है।
    अच्छा याद दिलाया -- आज ही एक काव्य गोष्ठी में जाना है। हंसते रहो !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाह यह हुई न बात ... जय हो सर जी जय हो आपकी ... ;)

      हटाएं
  2. तरह तरह के मुखौटे पहने, हम हँसना लगभग भूलते जा रहे हैं ! आभार याद दिलाने को शिवम् !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच है, आज हँसने योग्य कारनामों की कमीं कहाँ है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हा हा हा ... सही कह रहे है आप , पाण्डेय जी !

      हटाएं
  4. वाह!! विश्व हास्य दिवस। वैसे हम खूब हँसते हैं और दूसरों को भी खूब हँसाते है, क्योंकि हँसना बहुत ज़रूरी है!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज की ब्लॉग बुलेटिन देश सुलग रहा है... ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. हँसने के लिए यूं तो बहाने नहीं चाहिये... पर दिन बन ही गया तो तो चलो हंस लेते हैं इस पल भी ..
    उत्तम पोस्ट ...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter