सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

गुरुवार, 25 अक्तूबर 2012

हद है साला सब 'उल्टा पुल्टा' हो गया ... :(

इस एपिसोड को सच मे उस 'ऊपर वाले' ने 'मिस-डाइरैक्ट' कर दिया ...

टोटल 'फ्लॉप शो' ...
 

भट्टी साहब आपको शत शत नमन !

5 टिप्‍पणियां:

  1. सुबह सुबह खबर देखी बहुत दुख हुआ , बचपन में उन्होंने हम सभी को खूब हंसाया है और आज भी उनकी भ्रष्टाचार से लड़ाई अपने तरीके से जारी थी ।

    जसपाल भट्टी जी को श्रद्धांजलि ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. व्यंग्य की सही परिभाषा इलेक्ट्रौनिक मीडिया के ज़रिये इन्होंने ही समझाई!! इंसा दूसरा कोई नहीं!!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter