सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

सोमवार, 6 जून 2011

'नीला तारा' हुआ २७ साल का ...


आज से ठीक २७ साल पहले अपने देश भारत की राजनीती के आकाश में जन्म था यह 'नीला तारा' | यह 'नीला तारा' अपने साथ इतनी उर्जा लिए था कि उस उर्जा से झुलसे लोग आज तक अपने घावों पर मरहम लगते नज़र आते है | और कुछ के घाव तो २७ सालो के बाद आज तक भरे भी नहीं है |

बहुत से सवाल आज तक उतर के इंतज़ार में है और अगर यही हाल रहा तो कल तक भूला भी दिए जायेगे क्यों यही होता आया है अपने देश में !

आज जरूरत है एक संकल्प की कि आगे भविष्य में कभी भी ऐसी नौबत नहीं आने दी जाएगी कि अपने देश में फिर कोई 'नीला तारा' जन्म लें | और यह संकल्प लेना होगा हमारे नेतायों को ............और हमे भी |

जाने 'नीला तारा' के विषय में |

9 टिप्‍पणियां:

  1. इसे एक बुरा स्वपन समझ कर भुला देना ही बेहतर है । अच्छा है आगे की सोचें ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भारत में एक बार फिर जलियावाला हत्याकांड दोराह्या गया हे जो इस भ्रष्ट सरकार ने ये करवाया हे । जो भाई बहिन वंहा नही थे । वो पूरी बात जानने के लिए इस साईट पर जाएं http://www.bharatyogi.net/2011/06/blog-post_05.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. डॉ दराल साहब की टिप्पणी से मैं भी पूरी तरह इत्तेफाक रखता हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज तो टिप्पणी मे यही कहूँगा कि-

    दर्देदिल ग़ज़ल के मिसरों में उभर आया है
    खुश्क आँखों में समन्दर सा उतर आया है

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस तरह की घटनाएं देश का इतिहास बनाती/बिगाड़ती रहती हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  6. भिडरांवाला ज़िन्दा होता तो शायद आज भी बसों से उतारकर धर्म के अनुसार अलग-अलग कतारों में खडे करके निर्दोष लोगों को भूना जा रहा होता। आज भी कनिष्क जैसे कई जहाज़ बम से उडाये जा रहे होते। "नीला तारा" और ऐसे अन्य ऑपरेशंस में भारतीय सेना और अर्ध-सैनिक बलों के वीर जवानों ने बहुत कुर्बानियाँ दी हैं। बेशक उनमें से बहुत से शहीद मैनपुरी के भी रहे होंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस नीले तारे के बारे में न सोचना ही बेहतर है! हमें आगे बढ़ते जाना चाहिए!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter