सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

रविवार, 15 मई 2011

एक रि पोस्ट :- जन्मदिन पर विशेष :- क्रांतिकारी सुखदेव को अंग्रेजों ने दी बिना जुर्म की सजा

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में भारतीय भाषा विभाग के अध्यक्ष और इतिहासकार चमन लाल का कहना है कि सांडर्स हत्याकांड में सुखदेव शामिल नहीं थे, लेकिन फिर भी ब्रितानिया हुकूमत ने उन्हें फांसी पर लटका दिया। उनका कहना है कि राजगुरु, सुखदेव और भगत सिंह की लोकप्रियता तथा क्रांतिकारी गतिविधियों से अंग्रेजी शासन इस कदर हिला हुआ था कि वह उन्हें हर कीमत पर फांसी पर लटकाना चाहता था।

अंग्रेजों ने भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की फांसी को अपनी प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया था और वे हर कीमत पर इन तीनों क्रांतिकारियों को ठिकाने लगाना चाहते थे। लाहौर षड्यंत्र [सांडर्स हत्याकांड] में जहां पक्षपातपूर्ण ढंग से मुकदमा चलाया गया, वहीं अंग्रेजों ने सुखदेव के मामले में तो सभी हदें पार कर दीं और उन्हें बिना जुर्म के ही फांसी पर लटका दिया।
उन्होंने कहा कि सांडर्स हत्याकांड में पक्षपातपूर्ण ढंग से मुकदमा चलाया गया और सुखदेव को इस मामले में बिना जुर्म के ही सजा दे दी गई। पंद्रह मई १९०७ को पंजाब के लायलपुर [अब पाकिस्तान का फैसलाबाद] में जन्मे सुखदेव भी भगत सिंह की तरह बचपन से ही आजादी का सपना पाले हुए थे। ये दोनों लाहौर नेशनल कॉलेज के छात्र थे। दोनों एक ही सन में लायलपुर में पैदा हुए और एक ही साथ शहीद हो गए।
चमन लाल ने बताया कि दोनों के बीच गहरी दोस्ती थी। चंद्रशेखर आजाद के नेतृत्व में पब्लिक सेफ्टी और ट्रेड डिस्प्यूट बिल के विरोध में सेंट्रल असेंबली में बम फेंकने के लिए जब हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी [एचएसआरए] की पहली बैठक हुई तो उसमें सुखदेव शामिल नहीं थे। बैठक में भगत ने कहा कि बम वह फेंकेंगे, लेकिन आजाद ने उन्हें इजाजत नहीं दी और कहा कि संगठन को उनकी बहुत जरूरत है। दूसरी बैठक में जब सुखदेव शामिल हुए तो उन्होंने भगत सिंह को ताना दिया कि शायद तुम्हारे भीतर जिंदगी जीने की ललक जाग उठी है, इसीलिए बम फेंकने नहीं जाना चाहते। इस पर भगत ने आजाद से कहा कि बम वह ही फेंकेंगे और अपनी गिरफ्तारी भी देंगे।
चमन लाल ने बताया कि अगले दिन जब सुखदेव बैठक में आए तो उनकी आंखें सूजी हुइ थीं। वह भगत को ताना मारने की वजह से सारी रात सो नहीं पाए थे। उन्हें अहसास हो गया था कि गिरफ्तारी के बाद भगत सिंह की फांसी निश्चित है। इस पर भगत सिंह ने सुखदेव को सांत्वना दी और कहा कि देश को कुर्बानी की जरूरत है। सुखदेव ने अपने द्वारा कही गई बातों के लिए माफी मांगी और भगत सिंह इस पर मुस्करा दिए। दोनों के परिवार लायलपुर में पास-पास ही रहा करते थे।

भारत माँ के इस सच्चे सपूत सुखदेव को उनके जन्मदिन के अवसर पर हम सब की ओर से शत शत नमन !!
वन्दे मातरम !!

11 टिप्‍पणियां:

  1. मिश्र जी, जन्मदिन की हार्दिक बधाइयाँ ...

    शहीद सुखदेव के लिए मन से नमन !

    उत्तर देंहटाएं
  2. शहीद सुखदेवजी को शत शत नमन.....

    आपको जन्मदिन की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. नमन, अंग्रेजों का अन्याय सर्वविदित है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा संयोग ।
    आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. नमन इस वीर शहीद को...... जन्मदिन की शुभकामनायें स्वीकारें....

    उत्तर देंहटाएं
  6. शिवम् भाई, मुझे तो शहीद चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु जैसे क्रांतिकारियों से जुडी घटनाओं, इनके जीवन चरित्र इत्यादि को पढना या जानना हमेशा ही अच्छा लगता है, चाहे कितनी बार ही रीपीट क्यों न हो ..... पोस्ट के लिए धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  7. भारत माँ के इस सच्चे सपूत सुखदेव को मैर शत शत नमन, यह अग्रेज आज भी नही बदले...हमीं इन के जुल्म भुल गये हे.....
    जन्मदिन की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  8. अमर शहीद सुखदेव जी को नमन!
    आपको जन्मदिवस की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. शहीद सुखदेवजी को शत शत नमन....
    आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter