सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

रविवार, 24 अप्रैल 2011

अनचाही कॉल से मुक्ति - कम से कम एक साल तक नहीं

कम से कम एक साल तक अनचाही कॉल से मुक्ति नहीं मिलने वाली है। ऐसे कॉल और एसएमएस से छुटकारा दिलाने के लिए बीएसएनएल को अपने नेटवर्क में सुधार लाना होगा और इसकी मंजूरी लेने में दस महीने का समय लगेगा। दूरसंचार नियामक प्राधिकरण [ट्राई] ने अनचाही कॉल की समस्या दूर करने के लिए टेलीमार्केटिंग कंपनियों को एक खास सीरीज वाले नंबर देने का आदेश दिया है। ऐसा करने के लिए बीएसएनएल को अपना नेटवर्क उन्नत करना होगा।
ट्राई के अनुरोध पर दूरसंचार विभाग ने टेलीमार्केटिंग कंपनियों को मोबाइल फोन के लिए '140' से शुरू होने वाले नंबर सीरीज मुहैया कराए थे लेकिन लैंडलाइन कनेक्शन के लिए कोई नंबर सीरीज उपलब्ध न होने के कारण अनचाही कॉल की समस्या पर लगाम लगाना संभव नहीं हो पाया।
इसकी वजह यह है कि लैंडलाइन नंबर में तीन और अंक जोड़ देने पर 13 अंकों वाली सीरीज बनती है। दूरसंचार नेटवर्क में 13 अंकों वाले नंबर के संप्रेषण के लिए बीएसएनएल और एमटीएनएल को अपने एक्सचेंज की तकनीक को उन्नत करना होगा। हालांकि निजी दूरसंचार कंपनियों ने कहा है कि वे अपने एक्सचेंज को कुछ हफ्तों में नई तकनीक से लैस कर सकते हैं लेकिन बीएसएनएल और एमटीएनएल को इसके लिए ज्यादा समय चाहिए क्योंकि उन्हें नई तकनीक हासिल करने के लिए नीलामी की प्रक्रिया अपनानी होगी।
बीएसएनएल के पास लैंडलाइन कनेक्शन के लिए देश भर में 38 हजार एक्सचेंज हैं। इनमें से लगभग सभी एक्सचेंजों में 13 अंकों वाले नंबर के संप्रेषण के लिए उन्नत तकनीकी का इस्तेमाल करना होगा।

7 टिप्‍पणियां:

  1. यह हो जाए तो बहुत अच्छा होगा

    उत्तर देंहटाएं
  2. इंतज़ार के सिवाय हम कर ही क्या सकते हैं :-(

    उत्तर देंहटाएं
  3. अजी इन्हे अन्चाही काल से लाभ होता हे इस लिये जब तक चाहे यह टालना, टाल रहे हे, वर्ना अनचाही काल को एक दिन मे बन्द कर सकते हे, वो कुछ ना० ही तो हे जिन्हे यह ब्लाक कर दे, वैसे आप भी अपने मोबाईल मे उन ना० को ब्लाक कर सकते हे, जिन्हे आप नही चाहते

    उत्तर देंहटाएं
  4. पोस्ट तो अच्छी है,
    मगर क्या देश को अनचाहे भ्रष्टाचार से भी मुक्ति मिलेगी!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter