सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शनिवार, 19 मार्च 2011

होली की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं

बाकी बातें फिर कभी ... फिलहाल ...








आपको और आपके परिवार में सब को होली की बहुत 

बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

15 टिप्‍पणियां:

  1. सुस्वागतम शिवम,

    वादे के पक्के हो, तुमने 6 मार्च को पिछली पोस्ट में लिखा था 10-11 दिन अजीब लगेगा फिर कोई दिक्कत नहीं होगी...

    वाकई अब तुम्हारे वापस आने से कोई दिक्कत नहीं है...

    खुशियों के रंगों से आपकी होली सराबोर हो...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  2. भेद भाव को भूलके , मीठे बोलें बोल
    अहंकार को त्याग के, रस बरसायें घोल ।

    होली की हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको सपरिवार होली की शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  4. रंगों के पावन पर्व होली के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. शिवम् भाई होली पर आपकी वापसी सुखद है. आपको और आपके परिजनों को होली की बहुत बहुत शुभकामनाये और बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैनपुरी की मैन प्रतिभा, शिवम् जी महाराज को स:परिवार होली की बहुत-बहुत मुबारकबाद... हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपको एवं आपके परिवार को होली की बहुत मुबारकबाद एवं शुभकामनाएँ.

    सादर

    समीर लाल

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपको होली की शुभकामनाएँ
    प्रहलाद की भावना अपनाएँ
    एक मालिक के गुण गाएँ
    उसी को अपना शीश नवाएँ

    मौसम बदलने पर होली की ख़शियों की मुबारकबाद
    सभी को .

    उत्तर देंहटाएं
  9. अजी टंकी पर अकेले बेठे बेठे आदमी बोर हो जाता हे ना:) सुस्वागतम हे जी आप का.
    आप को सपरिवार होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपको होली की बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  11. होली के पावन रंगमय पर्व पर आपको और सभी ब्लोगर जन को हार्दिक शुभ कामनाएँ .
    मेरी पोस्ट 'ऐसी वाणी बोलिए' पर आपका इन्तजार है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुछ लोग जीते जी इतिहास रच जाते हैं
    कुछ लोग मर कर इतिहास बनाते हैं
    और कुछ लोग जीते जी मार दिये जाते हैं
    फिर इतिहास खुद उनसे बनता हैं
    आशा है की आगे भी मुझे असे ही नई पोस्ट पढने को मिलेंगी
    आपका ब्लॉग पसंद आया...इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी

    कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-



    बहुत मार्मिक रचना..बहुत सुन्दर...होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter