सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

बुधवार, 29 सितंबर 2010

एक माइक्रो पोस्ट :- चल तू खैनी घिस !!


रहेमु बोला नत्था से ...... पहले २४ ....फिर २८ और अब ३० ...??
नत्था बोला ......अरे हम को क्या ........चल तू खैनी घिस !!
हम कौन से नेता है जो इन सब की फ़िक्र करें ...
ना मैं मंदिर जाता .....ना तू जावे मज्जिद !!
रात को बच्चे भूखे ना सोये .... 
अपनी 'उस' से बस इतनी प्रीत !! 
रहेमु बोला सही कहता है ....
ले थोड़ी खैनी तू भी घिस !!

21 टिप्‍पणियां:

  1. रहेमु और् नत्था को क्या फर्क पड़ता है ... उन्हें तो फुर्सत ही नहीं रोटी की चिंता से

    उत्तर देंहटाएं
  2. शानदार
    मैं भी रहेमु और नत्था में से एक ही हूँ जी।
    ज्यादातर जनता क्या सोचती है इस विवाद पर आपने चार लाईनों में बता दिया।
    बहुत बढिया

    प्रणाम स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छा लिखा है आपने! कुछ अलग सा और शानदार पोस्ट रहा ये आपका!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आम आदमी घिसने और घिसाने के आलावा क्या कर सकता है

    उत्तर देंहटाएं
  5. रहेमु और नत्था बडे स्याने हैं जी । बडिया पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मै यकीन के संग कह सकता हुं कि ९०% लोग वो चाहे हिंदु हो या मुस्लिम उन्हे इस बात से इस फ़ेसले से कोई मतलब नही, सब शंति चाहते है, आपस मे मेल मिलाप चाह्ते है, आप ने दो लाईनो मै सच्चाई लिख दी, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. कम शब्‍दों में बडी बात .. गजब का लिखा है!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेचारे चैनी घिसने के इलावा ओर कर भी क्या सकते हैं.....

    उत्तर देंहटाएं
  9. खैनी घिस !!..बस, और कर भी क्या सकते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही बढ़िया... लिखा है.... हमें भी सिर्फ खैनी घिसने से ही मतलब है....

    उत्तर देंहटाएं
  11. बिकुल सटीक ...रोटी की चिन्ता में कैसा मंदिर और कैसी मस्जिद

    उत्तर देंहटाएं
  12. बात यहा तक ही रहे तो अच्छा है पर ये दोनो ही नेताओं के बहकाने पर मरने मारने पर उतारू हो जाएँगे ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुते बढिया,


    चल बाबा - तू भी खैनी घीस

    उत्तर देंहटाएं
  14. और क्या ..हमें राम रहीम से बस रोटी तक वास्ता.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter