सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

मंगलवार, 1 जून 2010

आज का पत्रकार

में आज का पत्रकार ।
मुझे गरीबों की मजबूरी से क्या सरोकार । ।
जीता हूँ ,मैं रईशों की जिंदगी ।
बिन AC मेरा जीवन बेकार । ।
मैं तो करूंगा चापलूसी उसकी।
कमाई होगी ऊपरी जिसकी । ।
पैसा ईमान मेरा भगवान् मेरा ।
बिन पैसा , मेरा जीवन बेकार । ।
मैं देख कर भी नहीं देखता अपराध , भ्रस्टाचार ।
जब तक आता रहे मेरा टैक्स हर बार ।

(नोट : आज के भ्रष्ट पत्रकारों को समर्पित एक लघु रचना । )
पाठक बताएँ ये संहारक है या नहीं

5 टिप्‍पणियां:

  1. आज के भ्रष्ट पत्रकारों का सही रुप, बहुत सुंदर लगा. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके परिचय के बाद कुछ अइसने उम्मीद कर रहे थे हम लोग.. एक दम सच उजागर किए हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कैसे कहें की मीडिया बिका हुआ है.....
    अच्छी और सार्थक रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब शर्मा जी ....................पहली पोस्ट की बहुत बहुत बधाइयाँ | युही लिखते रहिये! हमारी शुभकामनाएं आपके साथ है !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter