सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शुक्रवार, 23 अप्रैल 2010

एक माइक्रो पोस्ट :- मुझे जीने दो !!

मैं ना हिन्दू ना मुसलमान ; मुझे जीने दो !
दोस्ती है मेरा ईमान ; मुझे जीने दो !
कोई एहेसान ना करो मुझ पे तो एहेसान होगा;
बस इतना करो एहेसान , मुझे जीने दो !
ना मैं लेखक ना कवि ; ना बनना मुझे ब्लॉगर महान ;
मुझे जीने दो !!

2 टिप्‍पणियां:

  1. ना मैं लेखक ना कवि ; ना बनना मुझे ब्लॉगर महान ;
    मुझे जीने दो !!

    यह सन्देश नही मन्त्र है!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter