सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शनिवार, 24 अप्रैल 2010

37 साल के हुए क्रिकेट के भगवान


भारत के स्टार बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर शनिवार को 37 वर्ष के हो गए और उन्हें शुक्रवार रात इस जन्मदिन का सबसे बड़ा तोहफा इंडियन प्रीमियर लीग के पुरस्कार समारोह में मिला, जिसमें 'मास्टर ब्लास्टर' को सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज से नवाजा गया।

भारतीय क्रिकेट हालांकि इन दिनों सबसे बड़े संकट 'आईपीएल विवाद' से जूझ रहा है, जिसके कम होने का कोई आसार नहीं दिखता। जन्मदिन से एक दिन पहले आईपीएल तीन का सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज चुने जाने से बेहतरीन तोहफा तेंदुलकर के लिए और कुछ नहीं हो सकता था। तेंदुलकर ने हालांकि इस जन्मदिन के जश्न को स्थगित कर दिया है क्योंकि अभी उनकी टीम को रविवार को आईपीएल का फाइनल खेलना है।

वह इस बार टूर्नामेंट में शानदार फार्म में हैं और उन्होंने अब तक 14 मैच में 570 रन बनाए हैं, जिसमें पांच अर्धशतक शामिल हैं।


हम सब की ओर से सचिन कों जन्मदिन की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं !

3 टिप्‍पणियां:

  1. 37 साल के हुए क्रिकेट के भगवान??? यार हम सभी को भगवान ही क्यो बना देते है,क्या हमारे भगवान की इतनी ही ओकात है????? सचिन महान है ठीक है, लेकिन भगवान......?

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं भी राज भाटिया जी की बात को ही आगे बढ़ा रही हूँ। भगवान का अर्थ क्‍या होता है यह भी तो पहले जान लेना चाहिए। यदि देश में ऐसे ही भगवान बन गए तो फिर जिन के कारण वैज्ञानिक प्रगति होती है, जिन साहित्‍यकारों के कारण देश को एक दिशा मिलती है आदि आदि को आप क्‍या संज्ञा देंगे?

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप दोनों की भावनाओ का आदर करता हूँ पर केवल इतना कहना चाहता हूँ कि अगर भारत में क्रिकेट का खेल क्रिकेट प्रेमियों के लिए एक धर्मं के सामान है तो सचिन उस धर्मं के भगवान् है !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter