सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

गुरुवार, 24 सितंबर 2009

चांद पर पानी मिलने के प्रमाण



वैज्ञानिकों ने गुरुवार को घोषणा की कि भारत के पहले चंद्र मिशन चंद्रयान-1 ने चांद की सतह पर पानी की मौजूदगी के प्रमाण खोज निकाले हैं। हांलाकि इसकी पुष्टि इसरो ने नहीं की है।
चंद्रयान-1 के साथ भेजे गए नासा के उपकरण 'मून मिनरलोजी मैपर [एम-3]' ने परावर्तित प्रकाश की तरंगदै‌र्ध्य [वेवलेंथ] का पता लगाया जो ऊपरी मिट्टी की पतली परत पर मौजूद सामग्री में हाइड्रोजन और आक्सीजन के बीच रासायनिक संबंध का संकेत देता है।
चंद्रयान-1 द्वारा जुटाए गए विवरण का विश्लेषण कर एम-3 ने चंद्रमा पर पानी के अस्तित्व की पुष्टि कर दी है। इस खोज ने चार दशक से चले आ रहे इन कयासों पर विराम लगा दिया है कि चंद्रमा पर पानी है या नहीं।
वैज्ञानिकों ने पहले दावा किया था कि चंद्रमा पर लगभग 40 साल पहले पानी का अस्तित्व था। यह दावा उन्होंने अपोलो अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा स्मृति के रूप में धरती पर लाए गए चंद्र चट्टानों के नमूनों के अध्ययन के बाद किया था, लेकिन उन्हें अपनी इस खोज पर संदेह भी था, क्योंकि जिन बक्सों में चंद्र चट्टानों के अंश लाए गए, उनमें रिसाव हो गया था। इस कारण ये नमूने वातावरण की वायु के संपर्क में आकार प्रदूषित हो गए थे।

1 टिप्पणी:

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter