सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

सोमवार, 10 अगस्त 2009

अंजाम-ऐ-हिंदुस्तान

हर शाख पे उल्लू बैठा है ,
तो अंजाम-ऐ-गुलिस्तान क्या कहिये ??

हुकुमरानों की भीड़ में,जो नहीं कोई रहेनुमा ,
तो अंजाम-ऐ-नौजवान क्या कहिये ??

जब हर गली में नेता रहेता है ,
तो अंजाम--हिंदुस्तान क्या कहिये ??

-------------------------------------------------------------------------------------------------

नोट :- इसे पूरा करने में मदद करे |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter