सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शुक्रवार, 24 जुलाई 2009

राष्ट्रपति भवन का हेल्पलाइन पोर्टल शुरू




गांव, शहर, जिला, राज्य और केंद्र सरकार से मायूस होकर राष्ट्रपति के दर पर फरियाद लेकर पहुंचने वाले अपनी शिकायतों पर कार्रवाई कुछ जल्दी होने की उम्मीद कर सकते हैं। राष्ट्रपति भवन इन शिकायतों को आनलाइन प्रणाली के तहत तत्काल संबंधित राज्य व मंत्रालय को भेजेगा और इन पर हुई कार्रवाई की स्थिति पर लगातार नजर रखेगा। शिकायतकर्ता को भी उसकी शिकायत पर हो रही कार्रवाई की जानकारी आनलाइन मिल जाएगी।

यह सब हेल्पलाइन पोर्टल http://helpline.rb.nic.in के जरिये होगा। राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल ने इस पोर्टल को लांच कर दिया है। पोर्टल पाटिल के राष्ट्रपति के तौर पर दो साल पूरा करने से एक दिन पहले जारी किया गया है। इस पोर्टल पर कोई भी व्यक्ति सीधे शिकायत दर्ज कर सकेगा। इसका फायदा यह होगा कि राज्य सरकारों या केंद्र की राष्ट्रपति भवन के प्रति जवाबदेही बढ़ेगी और शिकायतों पर टालमटोल करना उनके लिए मुश्किल होगा।

शिकायतकर्ता को संबंधित राज्य सरकार या केंद्र के संबंधित मंत्रालय या विभाग का ब्यौरा देकर शिकायत भेजनी होगी। इसके साथ ही शिकायतकर्ता को एक विशिष्ट नंबर मिल जाएगा। शिकायतकर्ता पोर्टल पर लागइन कर इस नंबर के जरिये यह जान सकेगा कि उसकी शिकायत पर क्या और किस स्तर पर कार्रवाई हुई।

हर शिकायत को संबंधित राज्य सरकार या केंद्रीय मंत्रालय को भेजा जाएगा। उस पर कार्रवाई का ब्यौरा संबंधित सरकार या मंत्रालय देगा। राष्ट्रपति भवन का सचिवालय समय-समय पर कार्रवाई की स्थिति पूछेगा। यह पूरी प्रक्रिया आनलाइन होगी। इस प्रणाली से राष्ट्रपति को भी उन शिकायतों का जवाब देने में सहूलियत रहेगी, जिन पर कार्रवाई की जानकारी मांगी जाती है।

राष्ट्रपति भवन को रोज करीब 750 शिकायतें मिलती हैं। इनमें 400 डाक, 300 ई-मेल और 50 फैक्स के जरिए पहुंचती हैं।

5 टिप्‍पणियां:

  1. Respected madam
    I am from jharkhand and i want to send my problems. This log will be helpful for all the indians who are very weak

    उत्तर देंहटाएं
  2. Honourable Madam, I am from Koderma {Jharkhand}.This portal will help a lot to our people by solving their problems.I too will write in to it.a similarhelp to be started at district level. ---- A K Pandey, DVC KTPP .

    उत्तर देंहटाएं
  3. Respected Madam ( Prisident )
    this is the grate opuechnety for indian pepoles

    उत्तर देंहटाएं
  4. Respected ma'am,

    i am in a big trouble.my parents are not very good to me.i wish if i could know how you may help me . since i am not financially independent yet, i am not in a position to support myself or fight them.kindly help me out.

    Sonam

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप सब से एक विनती है जो भी चाहे यहाँ कमेन्ट दे पर अपनी शिकायते केवल http://helpline.rb.nic.in पर ही दे यहाँ नहीं |
    धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter