सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

रविवार, 26 जुलाई 2009

मैनपुरी के पांच सपूतों ने दी थी प्राणों की आहुति

आज कारगिल युद्ध की 10वीं बरसी है। दस वर्ष पूर्व 1999 में पाकिस्तान ने दुस्साहस का परिचय देते हुये हमारी जमीन पर कब्जा कर लिया परंतु हमारी सेना के वीर सपूतों ने दुश्मनों को खदेड़ फिर से अपनी जमीन हासिल कर ली। इस युद्ध में इस जिले के सपूतों ने भी शहादत दी। पांच जवानों ने दुश्मनों से लोहा लेते हुये जिले की गौरवगाथा में स्वर्णिम अध्याय अपने खून से लिख दिया। कारगिल युद्ध की 10वीं बरसी के मौके पर आज जनपद भर के लोग शहीद दिवस को समारोहपूर्वक मनायेंगे।

कारगिल का नाम सुनते ही देश भर में शहीदों की याद ताजा हो जाती है। इस जिले के पांच वीर सपूत दुश्मनों से लोहा लेते हुये शहीद हो गये। पूरे जिले ने उनकी शहादत को सलाम किया। बेवर क्षेत्र के ग्राम गढि़या घुटारा निवासी ग्रेनेडियर सिपाही मुनीष कुमार, अंजनी के सिपाही प्रवीन कुमार 3 जून को कारगिल चोटी पर शहीद हुये। किशनी के ग्राम दिवन्नपुर के हवलदार अमरुद्दीन ने 3 जुलाई को सीमा की रक्षा करते हुये अपने प्राणों की आहुत दे दी। कुरावली के ग्राम नगला आंध्रा निवासी सिपाही हेमचरन ने 23 जुलाई को तथा घिरोर के ग्राम शाहजहांपुर निवासी सत्यदेव ने 24 जुलाई को अपने प्राणों की परवाह न करते हुये शहादत दी। इन वीर सपूतों ने तो इतिहास में अपना नाम लिखवा दिया। परंतु सरकार ने भी इनकी सहादत का सम्मान करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। शहीद मुनीष कुमार की पत्‍‌नी मंजू को गैस एजेंसी शहीद प्रवीन की पत्‍‌नी को भी गैस एजेंसी तथा शहीद सत्यदेव के पुत्र को भी गैस एजेंसी आवंटित की गयी है। शहीद हेमचन्द्र की पत्‍‌नी को शिकोहाबाद में गैस एजेंसी दी गयी है, वहीं अमरुद्दीन की पत्‍‌नी मोमना देवी को किशनी में गैस एजेंसी दी गयी। शहीद सत्यदेव की पत्‍‌नी विमला देवी, शहीद हेमचरन की पत्‍‌नी संगीता देवी का निधन हो चुका है। पांचों शहीदों को केन्द्र व प्रदेश सरकार ने उनकी शहादत के कुछ दिनों बाद ही 10-10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी है। शहीदों के आश्रितों को पेंशन भी निर्बाध रूप से जिला सैनिक कल्याण बोर्ड द्वारा दिलाई जा रही है।

कारगिल युद्ध अपवाद नहीं है। पूर्व में भी कोई भी युद्ध रहा हो मैनपुरी के सपूतों ने आगे बढ़कर दुश्मनों के सीने पर गोली मारी है और अपने सीने पर गोली खाकर सीमाओं की रक्षा की है। यहां कमलेश्वर जैसे कलमकार देश के अंदर के हालातों के लिये लडे़ हैं तो सीमा की रक्षार्थ यहां के युवाओं ने प्राणों की आहुति देने में कोई हिचक महसूस नहीं की। आज जनपद भर में कारगिल शहीद की याद में विभिन्न कार्यक्रम होंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter