सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शनिवार, 11 जुलाई 2009

मानसून की चिंता में चित्त हुआ सेंसेक्स



मानसून की देरी व विश्व अर्थव्यवस्था की कमजोरी की चिंता ने शुक्रवार को सेंसेक्स को चारों खाने चित्त कर दिया। इन्फोसिस के बेहतर वित्तीय नतीजे भी बाजार को उबारने में महज तिनके की ही भूमिका निभा सके। भारी उठापटक के बीच शुक्रवार को सेंसेक्स में लगातार तीसरे सत्र में गिरावट आई। बंबई शेयर बाजार [बीएसई] का यह संवेदी सूचकांक शुक्रवार को 253.24 अंक यानी 1.84 फीसदी लुढ़क गया। यह 13504.22 अंक पर बंद हुआ। एक दिन पहले यह 13757.46 अंक पर था।

इस कारोबारी सप्ताह में सेंसेक्स में करीब 1283 अंकों की गिरावट आई है। यह 8 माह में सूचकांक की सबसे बड़ी साप्ताहिक गिरावट है। इसी प्रकार नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी 77.05 अंक यानी 1.89 फीसदी गिरकर 4003.90 पर बंद हुआ। गुरुवार को यह 4080.95 अंक पर बंद हुआ था।

बारिश में विलंब की चिंता और ग्लोबल अर्थव्यवस्था में सुधार को लेकर संदेह के माहौल ने निवेशकों का मनोबल गिरा दिया। इससे सत्र के आखिरी आधे घंटे में मुनाफावसूली शुरू हो गई और दलाल स्ट्रीट इसमें लुढ़कती चली गई। हालांकि इन्फोसिस के उम्मीद से बेहतर नतीजे ने बाजार को भारी गिरावट से बचा लिया। कंपनी ने अपने मुनाफे में 17 फीसदी का इजाफा दिखाया है।

बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स बढ़त के साथ 13803.12 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह ऊंचे में 13897.19 अंक तक चढ़ गया। सत्र की समाप्ति के आखिरी आधे घंटे में हुई भारी बिकवाली के चलते यह 13418.39 अंक तक लुढ़का पर अंत में यह कुछ संभल गया। खास बात यह रही कि इस दिन अंबानी बंधु-मुकेश व अनिल की कंपनियों ने बाजार में गिरावट की अगुवाई की। इनमें रिलायंस इंडस्ट्रीज, रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर, आरएनआरएल, आरकाम, रिलायंस पेट्रो, रिलायंस कैपिटल, रिलायंस इंडस्ट्रियल इंफ्रास्ट्रक्चर व आर पावर शामिल हैं। इन्फोसिस के शानदार परिणामों की बदौलत बीएसई का केवल आईटी सूचकांक ही बिकवाली के दबाव से बच पाया। इसमें 2.17 फीसदी की बढ़त दर्ज हुई।

अन्य सभी वर्गो के सूचकांक गिरावट पर रहे। आयल एंड गैस, पावर, कैपिटल गुड्स व रीयल एस्टेट कंपनियों से जुड़े सूचकांकों पर बिकवाली की ज्यादा मार पड़ी। इस दिन सेंसेक्स में शामिल 30 कंपनियों में 6 के शेयर फायदे में रहे, जबकि 24 में नुकसान दर्ज हुआ। बीएसई का कुल कारोबार भी घटकर 4598.24 करोड़ रुपये रह गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter