सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शुक्रवार, 17 जुलाई 2009

चलने दो शिक्षा का व्यापार

इन दिनों जिले भर में एडमीशन की गूंज है। संसाधन कम हैं और छात्रों की संख्या अधिक। छात्र और अभिभावक स्कूल दर स्कूल भटक रहे हैं मगर उन्हें दाखिला नहीं मिल रहा। प्राथमिक शिक्षा के लिये तो जिले में पर्याप्त संसाधन हैं। प्राइवेट स्कूलों में प्रवेश के कोई मानक नहीं हैं मगर उच्चतर शिक्षा से जुडे़ विद्यालयों में प्रवेश के लिये मारामारी का आलम है। इस स्थिति का विद्यालयों द्वारा जमकर फायदा उठाया जा रहा है। प्रशासन की लाख कोशिशों के बावजूद भी स्कूल संचालक छात्रों और अभिभावकों से खुलेआम लूट दर लूट कर रहे हैं और कोई कुछ भी नहीं कर पा रहा।

जनपद इन दिनों स्कूल फोबिया का शिकार है। हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट कक्षाओं से जुडे़ विद्यालयों में प्रवेश को लेकर हालात अच्छे नहीं हैं। कक्षा 6, 7, 8 में तो प्रवेश आसानी से मिल रहे हैं मगर कक्षा 9 और 11 में प्रवेश को लेकर बड़ी मारामारी है। इस मारामारी का कोई इलाज अभिभावकों को समझ में नहीं आ रहा। हाईस्कूल और इंटरमीडिएट में नकल के परिणाम स्वरूप जिले भर में शिक्षा का स्तर नीचे चला गया है। इसलिये अभिभावक भी अच्छे स्कूलों की तलाश में घूम रहे हैं। मगर अच्छे तो छोड़िये बदनाम विद्यालयों में भी प्रवेश की समस्या पैदा हो गयी। यह समस्या ही इन विद्यालयों के लिये गुड़ का पुआ बन चुकी है।

सरकार ने इंटर कालेजों के लिये फीस की दरें निर्धारित कर रखी हैं। सरकार द्वारा जारी वर्ष 2009-10 का शासनादेश देखें तो सरकार ने जिले के राजकीय और वित्तविहीन विद्यालयों के लिये कक्षा 6 से 12 तक के लिये फीस की दरों को निर्धारित कर दिया है। पर साहब इन्हे मानता कौन है ? जैसी पार्टी देखी वैसी फीस या फ़िर डोनेशन तो है ही | चलने दो शिक्षा का व्यापार !!!

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा लिखा है आपने। बिल्कुल सामायिक है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाकई, शिक्षा का व्यापारिकरण हो गया है.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter