सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

सोमवार, 13 जुलाई 2009

फर्जी पहचान पत्र पर अंकुश की तैयारी -- निलेकणी


भारतीयों को विशेष पहचानपत्र दिए जाने संबंधी 'भारतीय विशेष पहचान प्राधिकरण' के नवनियुक्त अध्यक्ष नंदन निलेकणी ने सोमवार को कहा कि सरकार फर्जी पहचानपत्र पर अंकुश का प्रयास करेगी और जांच एवं विश्वसनियता के लिए एक नेटवर्क तैयार करेगी।

निलेकणी ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदुरप्पा से मुलाकात के बाद एक बातचीत में कहा कि प्राधिकरण द्वारा हर भारतीय नागरिक का राष्ट्रीय केंद्रीकृत डाटाबोस तैयार किया जाएगा।'

इंफोसिस के पूर्व सह अध्यक्ष निलेकणी ने कहा कि योजना में बायो मैट्रिक, अंगुली के छाप वाला या कोई अन्य ऐसा तरीका खोजा जाएगा, जिससे लोगों की विशेष पहचान हो सके। इसके बाद प्राधिकरण राष्ट्रीय स्तर पर जांच के लिए नेटवर्क तैयार करेगा।

इस योजना के समयसीमा के भीतर खत्म हो जाने संबंधी प्रश्न पर उन्होंने कहा, 'मुझे पहले स्थिति का जायजा लेने दीजिए।' उन्होंने बताया कि पहचान तय करने वाली प्रणाली तैयार करेगा जिसका लाभ केंद्र सरकार, राज्य सरकार और निजी क्षेत्र उठा सकते हैं। मसलन कोई राज्य इस योजना को अपने यहां लागू करना चाहेगा, तो वह इस डाटाबेस को लाभार्थियों की पहचान के लिए प्रयोग कर सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter