सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

बुधवार, 1 जुलाई 2009

रोज़ आया करे प्रमुख्य सचिव |

सुबह से ही बिजली की असीम अनुकम्पा बनी हुयी है | बहुत अच्छा लगता है जब घर के सभी बिजली उपकरण चलते हुए दिखते है | पर साथ साथ यह भी समझ नहीं आ रहा था की आज बिजली गई क्यों नहीं पता किया तो जानकारी हुयी की आज मैनपुरी में उत्तर प्रदेश सरकार के प्रमुख्य सचिव ग्रह और अपर कैबिनेट सचिव अपने अपने लाव लश्कर के साथ आए हुए है इसलिए बिजली बनी हुयी है|

जिला प्रशासन दोनों की आवभागत में जुटा हुआ है ताकि सब की नौकरी बच जाए | खैर ,जनाब हमे इससे क्या हमे तो आज बिजली मिल रही है इन्वेर्टर भी खुब चार्ज हो रहा है आने वाले दिनों में फ़िर वोही २४ घंटो में १० घंटे ही बिजली मिलेगी तब बेचारा कहाँ चार्ज हो पायेगा ?

एक बात जो किसी भी तरह से समझ के परे है कि जब आम दिनों में बिजली दे पाना इतना कठीन रहेता है कि आई नहीं और जाने कि तैयारी शुरू तो आज यह बिजली कहाँ से आ रही है ????
आज सप्लाई पूरी है कोई भी शोर्टेज नहीं, कोई फौल्ट नहीं, कोई ब्रेकडाउन नहीं .............. क्या जादू है भाई ????
रोज़ निर्धारित रोस्टर के आलावा भी हम लोगो को कटोती झलनी पड़ती है कभी आपातकालीन रोस्टिंग, कभी फौल्ट , कभी ब्रेक डाउन कभी कुछ , कभी कुछ अब तो आदत बन गई है बिना बिजली के रहेने की | हर कोई अपना पूरे दिन का आने जाने का प्रोग्राम बिजली आने जाने के समय के साथ तालमेल बैठते हुए तैय करता है |

पीने का पानी भी बिजली के न आने से दूर दूर से भर कर लाना होता है उसपे भी लम्बी लम्बी लाइन लगती है हैण्ड पम्प पर, हर कोई दुखी है पर क्या करे मजबूर है|

सिर्फ़ और सिर्फ़ एक ही बात समझ आती है कि हम मैनपुरी वालो को सिर्फ़ बसपा के लोकसभा सीट हारने की सज़ा मिल रही है और दूसरा कोई कारण अगर है तो आप बताओ ...............................????

एसा नहीं है कि गर्मी आम जनता को नहीं लगती केवल आधिकारियो को लगती है | यह मंत्री और उनके सचिव जिस पैसे का उपयोग कर अपनी गर्मी दूर भागते है वोह आपके और हमारे दिए हुए है.... टैक्स के रूप में|


रोज़ नए नए टैक्स का बोझा तो आम जनता अपना पसीना बहा कर उठाये और एयरकंडीशनर कमरों में बैठ कर मज्जा करे यह मंत्री और सचिव ????????

क्या कहेने तेरे लोकत्रंत !!!!

खैर येही दुआ है कि................

रोज़ आया करो सचिव जी, बिजली पानी लाया करो सचिव जी,

खुदा तो अब हमे पूछता नहीं , तुम ही खुदा बन जाया करो सचिव जी |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter