सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

गुरुवार, 16 जुलाई 2009

सेंसेक्स में 400 अंकों का उछाल


अर्थव्यवस्था में सुधार से उत्साहित तेजड़िए बुधवार को दलाल स्ट्रीट में हावी हो गए। उन्होंने भारी लिवाली कर मंदड़ियों को अपनी मांद में दुबकने के लिए मजबूर कर दिया। विदेशी व घरेलू फंडों से मिले समर्थन के बल पर बंबई स्टाक एक्सचेंज [बीएसई] का सेंसेक्स इस दिन 399.54 अंक यानी 2.88 फीसदी उछलकर फिर से 14 हजार के आंकड़े को पार कर गया। यह 14253.24 अंक पर बंद हुआ। एक दिन पहले यह तगड़ी तेजी के साथ 13853.70 पर था। इसी प्रकार नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी 122.10 अंक यानी 2.97 फीसदी चढ़कर 4233.50 अंक पर बंद हुआ। मंगलवार को यह 4111.40 अंक पर था।

सीमा शुल्क संग्रह में बढ़ोतरी, बेहतर औद्योगिक उत्पादन और कंपनियों के अच्छे वित्तीय नतीजों जैसे कई उत्साहव‌र्द्धक संकेतों को देख निवेशकों ने दूसरे दिन भी लिवाली जारी रखी। बाजार को वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी के बयान का भी बल मिला। मुखर्जी ने कहा है कि अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत मिलने लगे हैं। चालू वित्त वर्ष 2009-10 की पहली तिमाही [अप्रैल-जून] के दौरान सीमा शुल्क संग्रह 18 हजार करोड़ रहा है। इस दौरान देश में स्टील व सीमेंट की खपत भी बढ़ी है। अभी तक ये दोनों क्षेत्र मांग में कमी के चलते ही मंदी के शिकार बने हुए थे। यूरोपीय व एशियाई बाजारों में आई मजबूती का भी दलाल स्ट्रीट की तेजी को समर्थन मिला। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स की शुरुआत मजबूती के साथ 13917.27 अंक पर हुई। थोड़ी ही देर में यह सत्र के निचले स्तर 13891.04 अंक तक चला गया। इसके बाद लिवाली के जोर से इस संवेदी सूचकांक ने मुड़कर नहीं देखा। यह कारोबार बंद होने से थोड़ा पहले 14299.54 अंक के ऊंचे स्तर तक चला गया था। छोटी व मझोली कंपनियों से जुडे़ सूचकांकों स्मालकैप व मिडकैप में सेंसेक्स के मुकाबले कहीं ज्यादा तेजी आई। ये दोनों ही सूचकांक 4 फीसदी से ज्यादा बढ़त लेकर बंद हुए।

बीएसई के सभी सूचकांकों ने तेजी दर्ज की। रीयल एस्टेट कंपनियों से जुड़े सूचकांक में सबसे ज्यादा 7.98 फीसदी की उछाल आई। मेटल, पीएसयू, पावर व कैपिटल गुड्स वर्ग के सूचकांकों में भी तेज बढ़त देखी गई। इस दिन सेंसेक्स की 30 कंपनियों में 29 के शेयर फायदे में रहे, अकेले इन्फोसिस में नुकसान दर्ज हुआ। बीएसई का कारोबार भी बढ़कर 5460.73 करोड़ रुपये हो गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter