सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

शुक्रवार, 26 जून 2009

माया ही माया ........सब माया है !!!!!!





तो आखिरकार तैयार हो ही गई माया और कांशीराम की ४० मूर्तियाँ ! और शीघ्र ही मायावती जी इनका अनावरण करने जा रही है ! बात इसलिए ख़ास है कि ये मूर्तिया उत्तरप्रदेश की एक विशाल सरकारी जमीन पर लगने को तैयार है ये हमारे इस तथाकथित सबसे बड़े लोकतंत्र की इस सदी के दो महान राजनेताओ की मूर्तिया है, एक की जीते जी, और दूसरे की मरणोपरांत ! जीते जी इसलिए कि बाद में उत्तराधिकारियों पर भरोसा नहीं है कि वे बनायेंगे भी या नहीं, इसलिए अभी से निपटा दिया ! दूसरी ख़ास बात है इनकी कीमत, एक अरब चौरानब्बे करोड़ की लागत से तैयार इन मोर्तियो की चमक ही कुछ ख़ास है ! जो बात ख़ास नहीं है उसे भी लिख दूं, और वह यह है कि इस एक अरब चौरानब्बे करोड़ रूपये में उत्तरप्रदेश के सारे दलित परिवार करीब चार महीने तक सरकारी खर्चे पर भंडारा लगाके मुफ्त में भरपेट खिलाये जा सकते थे ! खैर, ऐंसी बाते लोकतंत्र में ज्यादा अहमियत नहीं रखती, दलित भूखे रहते है तो वो उनके अपने कर्म है, उससे मायावती बहन को क्या लेना देना ? बहन मायावती जी के लिए तो वो क्या खुशनुमा पल होंगे जब कभी फुरसत पर वह अपने बनाए ( चाहे वह लोगो की गाढे टैक्स की कमाई से ही क्यों न बने हो ) पार्क में अपनी ही मूर्तियों के बीच से गुजरते हुए भ्रमण करेंगी और कबूतर तथा अन्य पक्षी, मूर्तियों के सिर में बैठकर अपना पेट हल्का करता देखेगी ! सच में किस्मत वालो को ही ऐसे सीन देखने को नसीब होते है !
प्रदेश की गरीब जनता के शब्दों में "हमार एसन नसीब कहाँ बाबू , हम तो गरीब जनता बा | पन बाबू हम टैक्स जरूर देत है मूर्ति लगना भी तो जरूरी बा न बाबू ...........पार्क आख़िर बनता तो हम जैसन के लिए ही है न ????"

अब यह तो हम नहीं जानते की पार्क किन के लिए बनता है पर हाँ यह जरूर जानते है इन् पार्को और समाराको के चक्कर में हम जरूर बन जाते है ........ अरे "वोही" जो दिन में सोता है और रात में जागता है ...... क्यों समझ गए ??

टाईम्स ऑफ़ इंडिया में प्रकाशित एक लेख यहाँ प्रस्तुत है |

8 टिप्‍पणियां:

  1. Sab Maya hai Bhai Sab Maya!!!!!! is kahani se ye shiksha milti hai ki duniya main keval do hi varg hote hai Shashk aur Shashit na ki Agde aur Pichade. jis ko moka milega wo hi dhoyega.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मायावति की तो एक ही दिख रही है. ४० तो हाथियों की हैं, उन्हें भी गिना है क्या?


    शर्मनाक!! ये कैसा लोकतंत्र है?

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमारे आपके कहने से क्या होगा उनका वोट बैंक कहे तब न बात बनेगी .

    उत्तर देंहटाएं
  4. इससे बड़ा शर्म क्या हो सकता है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. देश के लिए मायावती के किए इस महान कार्य को देश सदा याद रखेगा....:))

    उत्तर देंहटाएं
  6. भीम राव अन्बेडकर जी और कांशीराम जब दोनो ही उत्तरप्रदेश की वसीयत इनके नाम लिख गये हैं तो फिर ये अपनी पैतृ्क सम्पत्ति का जैसे चाहें भोग करें!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter