सदस्य

नयी पोस्ट की जानकारी लें ईमेल से

 

बुधवार, 1 अप्रैल 2009

खट्टे मीठे "वादे"

आज कल चुनावी मौसम आया हुआ है अपने साथ "वादे" नाम का एक खयाली फल लाया हुआ है |
इस फल की एक खासियत, जो की इसको उगाने वाले बताते है, यह है की यह कभी भी खट्टा नहीं निकलता | वैसे आज तक हमने तो कभी भी एकदम मीठा "वादा" खाया नहीं ,थोड़ा बहुत खट्टा तो हर "वादा" निकला | इस बार के "वादे" हम ने अभी तक चखे नहीं है पर उम्मीद है की अबकी बार एक आध मीठा "वादा" तो खाने को मिलेगा !!!!
आगे जैसी हरी इच्छा !!!!!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों की मुझे प्रतीक्षा रहती है,आप अपना अमूल्य समय मेरे लिए निकालते हैं। इसके लिए कृतज्ञता एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।

ब्लॉग आर्काइव

Twitter